Tumhein Apna Sathi banane Se Pahle Lyrics in Hindi


Song : Tumhe Apna Sathi Banane Se Pahle
Singer : Lata Mangeshkar, Shabbir Kumar
Movie : Pyar Jhukta Nahi Hai (1985)
Lyrics : S H Bihari

 

Hazaaron aandhiyaan aayein
Hazaaron bijliyaan chamkein
Kabhi saathi ko tanha
Raah mein choda nahi karte

Tumhein apna saathi banane se pehle
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai
Tumhein apna saathi banane se pehle
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai
Mohabbat ki duniya basane se pehli
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai
Tumhein apna saathi banane se pehle
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai

Kahan se main launga resham ki sari?
Yeh bangla, yeh motor, nahin le sakunga…
Mera dil hi bas ek meri milkiyat hai
Jo chaho tau, bas main, yehi de sakunga
Magar dil ki dhadkhan sunane se pehle
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai
Tumhein apna saathi banane se pehle
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai

Yeh rangeen yaara hath-e-zindagi ki
Yeh rangeen yaara hath-e-zindagi ki
Bahut kuch tumhein has ke khona padega
Kabhi meri gurbat ne ansoo diye tau
Tumhein bhi mere saath rona padega
Magar saath tum ko dilane se pehle
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai
Tumhein apna saathi banane se pehle
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai

Main darrta hoon us din ki rusvaiyon se
Main darrta hoon us din ki rusvaiyon se
Kahin pyar par apne duniya hase na
Mohabbat ka ho naam badnaam hum se
Zamaana kahin hum pe taane kase na
Sitaaron ki mehfil sajane se pehle
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai
Tumhein apna saathi banane se pehle
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai
Meri jaan mujh ko bahut sochna hai

Recommended for you  Aag Bahe Teri Rag Mein Lyrics in Hindi

Mohabbat jinhein ho gyi ho kisi se
Mohabbat jinhein ho gyi ho kisi se
Mohabbat ka anjaam kab sochte hain
Ye aisa suhana safar hai ki jisme
Hazaron hai nakaam kab sochte hain
Chiraag-e-wafa apne haathon mein lekar
Mohabbat ki raahon mein jo chal pade hain
Bayaanbaan mein hogi ki sehra mein hogi
Kahaan hogi ab shaam kab sochte hain
Kahaan hogi ab shaam kab sochte hain
Mohabbat ke maaron ko ab aur ae dil
Satayengi kya shakatiyan zindgi ki
Jinhein thak kar neend aa gyi patharon par
Wo duniya ka aaram kab sochte hain

Ye insaan kya hai, khuda ke bhi aage
Kabhi pyar duniya mein jhukta nahi hai
Pyar jhukta nahi hai

Mohabbat hi jinko khuda ban chuki ho
Kisi aur ka naam kab sochte hain
Mohabbat jinhein ho gyi ho kisi se
Mohabbat ka anjaam kab sochte hain
Mohabbat ka anjaam kab sochte hain

हज़ारों आंधियां आई
हजारों बिजलियाँ चमकीं
कभी साथी को तनहा
राह में छोड़ा नहीं करते

तुम्हे अपना साथी बनाने से पहले
मेरी जान मुझको बहुत सोचना है
मेरी जान मुझको बहुत सोचना है
तुम्हे अपना साथी बनाने से पहले
मेरी जान मुझ को बहुत सोचना है
मेरी जान मुझ को बहुत सोचना है
मोहब्बत की दुनिया बसाने से पहले
मेरी जान मुझ को बहुत सोचना है
तुम्हें अपना साथी बनाने से पहले
मेरी जान मुझ को बहुत सोचना है
मेरी जान मुझ को बहुत सोचना है

कहाँ से मैं लाऊंगा रेशम की साड़ी
ये बंगला ये मोटर नहीं ले सकूँगा
मेरा दिल ही बस एक मेरी मिलकियत है
जो चाहो तो बस मैं यही दे सकूँगा
मगर दिल की धड़कन सुनाने से पहले
मेरी जान मुझ को बहुत सोचना है
तुम्हें अपना साथी बनाने से पहले
मेरी जान मुझ को बहुत सोचना सोचना है
मेरी जान मुझ को बहुत सोचना है

ये रंगीन यारा हाथ ए जिन्दगी
ये रंगीन यारा हाथ ए जिन्दगी
बहुत कुछ तुम्हें हँस के खोना पड़ेगा
कभी मेरी ग़ुरबत ने आंसू दिए तो
तुम्हे भी मेरे साथ रोना पड़ेगा
मगर साथ तुम को दिलाने से पहले
मेरी जान मुझ को बहुत सोचना है
तुम्हे अपना साथी बनाने से पहले
मेरी जान मुझ को बहुत सोचना है
मेरी जान मुझ को बहुत सोचना है

मैं डरता हूँ उस दिन की रुसवाइयों से
मैं डरता हूँ उस दिन की रुसवाइयों से
कहीं प्यार पर अपने दुनिया हसे ना
मोहब्बत का हो नाम बदनाम हम से
ज़माना कहीं हम पे ताने कसे ना
सितारों की महफिल सजाने से पहले
मेरी जान मुझ को बहुत सोचना है
तुम्हे अपना साथी बनाने से पहले
मेरी जान मुझ को बहुत सोचना है
मेरी जान मुझ को बहुत सोचना है

मोहब्बत जिन्हें हो गयी हो किसी से
मोहब्बत जिन्हें हो गयी हो किसी से
मोहब्बत का अंजाम कब सोचते हैं
ये ऐसा सुहाना सफ़र है की जिसमे
हज़ारों है नाकाम कब सोचते हैं
चिराग ए वफ़ा अपने हाथों में लेकर
मोहब्बत की राहों में जो चल पड़े हैं
बयाबान में होगी की सेहरा में होगी
कहाँ होगी अब शाम कब सोचते हैं
कहाँ होगी अब शाम कब सोचते हैं
मोहब्बत के मारों को अब और ऐ दिल
सताएंगी क्या शक्तियां ज़िन्दगी की
जिन्हें थक हार नींद आ गयी पत्थरों पर
वो दुनिया का आराम कब सोचते हैं

ये इंसान क्या है खुदा के भी आगे
कभी प्यार दुनिया में झुकता नहीं है
प्यार झुकता नहीं है

मोहब्बत ही जिनको खुदा बन चुकी हो
किसी और का नाम कब सोचते हैं
मोहब्बत जिन्हें हो गयी हो किसी से
मोहब्बत का अंजाम कब सोचते हैं
मोहब्बत का अंजाम कब सोचते हैं

Recommended for you  Kya Tujhe Ab Ye Dil Bataye Lyrics in Hindi

3069total visits,1visits today

Tagged , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *