Vaada Tera Vaada Lyrics

Sachchaai Chhup Nahin Sakti Se
Banaavat Ke Usoolon
Ki Khushboo Aa Nahin Sakti
Kabhi Kaagaz Ke Phoolon Se
Maein Intezaar Karoon
Ye Dil Nisaar Karoon
Maein Tujhse Pyaar Karoon
O Magar Kaise Aitbaar Karoon
Jhootha Hai Tera Vaada
Vaada Tera Vaada
Vaada Tera Vaada
Vaade Pe Tere Maara Gaya
Banda Maein Seedha Saadha
Vaada Tera Vaada…

Tumhari Zulf Hai Ya
Sadak Ka Mod Hai Yeh
Tumhari Aankh Hai Ya
Nashe Ka Tod Hai Yeh
Kaha Kab Kya Kisi Se
Tumhein Kuchh Yaad Nahin
Hamaare Saamne Hai
Hamaare Baad Nahin
Kitaab-E-Husn Mein To
Vafa Ka Naam Nahin
Arey Mohabbat Tum Karogi
Tumhaara Kaam Nahin
Akadti Khoob Ho Tum
Meri Mehboob Ho Tum
Nigaah-E-Gair Se Bhi
Magar Mansoob Ho Tum
Kisi Shaayar Se Poochho
Ghazal Ho Ya Rubaai
Bhari Hai Shaayari Mein
Tumhaari Bewafaai Ho…
Daaman Mein Tere Phool Hain Kam
Aur Kaante Hain Zyaada
Vaada Tera Vaada…

Taraane Jaanti Hai
Fasaane Jaanti Hai
Kai Dil Todne Ke
Bahaane Jaanti Hai
Kahin Pe Soz Hai Tu
Kahin Pe Saaz Hai Tu
Jise Samjha Na Koi
Vahi Ek Raaz Hai Tu
Kabhi Tu Rooth Baithi
Kabhi Tu Muskuraai
Are Kisi Se Ki Mohabbat
Kisi Se Bewafaai
Udaae Hosh Tauba
Teri Aankhen Sharaabi
Zamaane Mein Hui Hai
Inhin Se Har Kharaabi
Bulaae Chhaanv Koi
Pukaare Dhoop Koi
Tera Ho Rang Koi
Tera Ho Roop Koi Ho…
Kuchh Phark Nahin Naam Tera
Raziya Ho Ya Raadha
Vaada Tera Vaada…

 

सच्चाई छुप नहीं सकती
बनावट के उसूलों से
की खुशबू आ नहीं सकती
कभी कागज़ के फूलों से
मैं इन्तेजार करूं
ये दिल निसार करूं
में तुझसे प्यार करूं
ओ मगर कैसे ऐतबार करूं
झूठा है तेरा वादा
वादा तेरा वादा
वादा तेरा वादा
वादे पे तेरे मारा गया
बंदा मैं सीधा साधा
वादा तेरा वादा ..........

तुम्हारी ज़ुल्फ़ है या
सड़क का मोड़ है
तुम्हारी आँख है या
नशे का तोड़ है ये
कहा कब क्या किसी से
तुम्हे कुछ याद नहीं
हमारे सामने है
हमारे बाद नहीं
किताब ए हुस्न में तो
वफ़ा का नाम नहीं
अरे मोहब्बत तुम करोगी
तुम्हारा काम नहीं
अकड़ती खूब हो तुम
मेरी महबूब हो तुम
निगाह ए गैर से भी
मगर मंसूब हो तुम
किसी शायर से पूछो
ग़ज़ल हो या रुबाई हो
भरी है शायरी में
तुम्हारी बेवफाई हो .......
दामन में तेरे फूल हैं कम
और कांटे हैं ज्यादा
वादा तेरा वादा

तराने जानती है
फ़साने जानती है
कई दिल तोड़ने के
बहाने जानती है
कहीं पे सोज़ है तू
कहीं पे साज़ है तू
जिसे समझा ना कोई
वाही एक राज है तू
कभी तू रूठ बैठी
कभी तू मुस्कराई
अरे किसी से की मोहब्बत
किसी से बेवफाई
उडाये होश तौबा
तेरी आँखें शराबी
ज़माने में हुई है
इन्ही से हर खराबी
बुलाये छाँव कोई
पुकारे धूप कोई
तेरा हो रंग कोई
तेरा हो रूप कोई हो .....
कुछ फर्क नहीं नाम तेरा
रज़िया हो या राधा
वादा तेरा वादा .............

1732total visits,1visits today

Recommended for you  Pehla Nasha Lyrics
Tagged , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *