“हुआ है आज पहली बार “HUA HAIN AAJ PEHLI BAAR Lyrics In Hindi From Sanam Re Hindi Movie

Hua hai aaj pehli baar
Jo aise muskuraya hoon
Tumhe dekha toh jaana ye
Ke kyun duniya mein aaya hoon

Hua hai aaj pehli baar
Jo aise muskuraya hoon
Tumhe dekha toh jaana ye
Ke kyun duniya mein aaya hoon

Ye jaan lekar ke jaa meri
Tumhe jeene main aaya hoon
Main tumse ishq karne ki
Ijaazat Rab se laaya hoon

Zameen se aasmaan tak hum
Dhoondh aaye jahaan saara
Banaa paaya nahi ab tak
Khuda tumse koi pyaara

Zameen se aasmaan tak hum
Dhoondh aaye jahaan saara
Banaa paaya nahi ab tak
Khuda tumse koi pyaara

Baaton mein teri hain badmashiyan
Sab bewajah ki hain taarifiyaan

Main likh doon aasmaan par ye
Ke padh lega jahaan saara
Huaa na hoga ab koi
Yahan hum do sa dobara

Main duniya bhar ki taarifein
Tere sajde mein laaya hoon
Main tumse ishq karne ki
Ijaazat Rab se laaya hoon
(Rab se laaya hoon.. Rab se laaya hoon..)

Tu hai jo rubaru mere
Bada mehfooz rehta hoon
Tere milne ka shukrana
Khuda se roz karta hoon

Tu hai jo rubaru mere
Bada mehfooz rehta hoon
Tere milne ka shukrana
Khuda se roz karta hoon

Humko pata hai yeh nadaniyaan hain
Aawara dil ki hai aawariyan

Yeh dil pagal bana baitha
Isey ab tu hi samjha de
Dikhe tujhme meri duniya
Meri duniya tu banja re

Hoon khushkismat jo kismat se
Tumhe aise main paaya hoon
Main tumse ishq karne ki
Ijaazat Rab se laaya hoon

"हुआ है आज पहली बार " ये गीत है सनम रे हिंदी फिल्म का। इस गीत को लिखा है  मनोज यादव ने।  इस गीत  आवाज  संवारा है अमाल मलिक , अरमान मलिक और पलक मुच्छल ने। इस गीत को संगीत दिया है अमाल मलिक ने।
 

इस गीत के बोल इस प्रकार हैं :

Recommended for you  Tu Premi Aa Ha Main Premi Aa Ha Lyrics in Hindi

हुआ है  आज पहली बार
जो ऐसे मुस्कराया हूँ
तुम्हे देखा तो  जाना ये
की क्यों दुनिया में आया हूँ

हुआ है  आज पहली बार
जो ऐसे मुस्कराया हूँ
तुम्हे देखा तो  जाना ये
की क्यों दुनिया में आया हूँ

ये जां लेकर के जा मेरी
तुम्हे जीने मैं आया हूँ
मैं तुमसे इश्क़ करने की
इजाजत रब से लाया हूँ

जमीं  से आसमां तक हम
धूड़ लाये जहां सारा
बना पाया नहीं अब तक
खुदा तुमसे कोई प्यारा

बातों में तेरी है
बदमाशियां
सब बेवजह की हैं तारीफियां

मैं लिख दूँ आसमां पर ये
की पड़ लेगा जहां सारा
हुआ न होगा अब कोई
यहाँ हम दो सा दोबारा
मैं दुनिया भर की तारीफें
तेरे सजदे में लाया हूँ
मैं तुमसे इश्क़ करने की
इजाजत रब से लाया हूँ

3936total visits,5visits today

Tagged , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *