Kisee Patthar Kee Murat Se Lyrics

Kisee Patthar Kee Murat Se Muhabbat Kaa Irada Hai Lyrics
Movie – Hamraaz (Old)
 Kisee patthar kee murat se muhabbat kaa irada hai
 Parastish kee tamanna hai, ibadat kaa irada hai
 Kisee patthar kee murat se……..
 Jo dil kee dhadakane samajhe, naa aankho kee juban samajhe
 Najar kee guftagu samajhe, naa jajabon kaa bayan samajhe
 Usike samane usakee shikayat kaa irada hai
 Kisee patthar kee murat se……..
 Suna hai har javan patthar ke dil me aag hotee hai
 Magar jab tak naa chhedo, sharm ke parde me sotee hai
 Yeh socha hai kee dil kee bat usake rubaru kah de
 Natija kuchh bhee nikale aaj apni aarju kah de
 Har ik bejan takalluf se bagavat kaa irada hai
 Kisee patthar kee murat se……..
 Muhabbat berukhee se aur bhadakegee woh kya jane
 Tabiyat iss ada pe aur phadkegee woh kya jane
 Woh kya jane kee apna kis kayamat kaa irada hai
 Kisee patthar kee murat se……..
Kisi Patthar Ki Murat Se Lyrics In Hindi

किसी पत्थर की मूरत से मोहब्बत का इरादा है
परस्तिश की तमन्ना है, इबादत का इरादा है
जो दिल की धड़कने समझे, ना आँखों की जुबाँ समझे
नज़र की गुफ्तगू समझे, ना जजबों का बयान समझे
उसी के सामने उसकी शिकायत का इरादा है
सुना है हर जवां पत्थर के दिल में आग होती है
मगर जब तक ना छेड़ो शर्म भी परदे में सोती है
ये सोचा है के दिल की बात उस के रूबरू कह दे
नतीजा कुछ भी निकले आज अपनी आरजू कह दे
हर एक बेजान तकल्लूफ़ से बग़ावत का इरादा है
मोहब्बत बेरूख़ी से और भड़केगी वो क्या जाने
तबीयत इस अदा पे और फड़केगी वो क्या जाने
वो क्या जाने के अपना किस कयामत का इरादा है

Recommended for you  Kisine Meraa Nam Likha Lyrics

449total visits,1visits today

Tagged .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *