यशोदा तेरे भाग्य की कही ना जाये भजन हिंदी में

यशोदा तेरे भाग्य की कही ना जाये
जो मूरति ब्रह्मादिक दुर्लभ , सो प्रगटे हैं आय

शिव नारद सनकादिक महामुनि , मिलवे करत उपाय

ते नंदलाल धूर धूसरि वपु , रहत कंठ लिपटाय
रतन जटित पौडाय पालने , वदन देखि मुसकाय

झूलों मेरे लाल जाऊं वलिहारी परमानन्द यश गाय

1091total visits,1visits today

Recommended for you  Meri Jholi Chhoti Pad Gayi re Lyrics in Hindi