Chandi ka badan Sone ki Nazar Lyrics in Hindi

Song: Chaandi Kaa Badan Sone Ki Nazar, Movie: Tajmahal (1963), Singer: Asha Bhosle, Manna Dey, Meena Kapoor, Mohammed Rafi, Music: Roshan, Lyrics: Sahir Ludhianvi.


chaandi kaa badan sone ki nazar
us par ye nazaakat kyaa kahiye
eji kyaa kahiye
chaandi kaa badan sone ki nazar
us par ye nazaakat haay nazaakat kyaa kahiye
kis kis pe tumhaare jalwo ne
todi hai qayaamat kyaa kahiye
eji kyaa kahiye
chaandi kaa badan sone ki nazar

gustaakhh zubaan gustaakhh nazar
ye rang-e-tabiyat kyaa kahiye
eji kyaa kahiye
aise bhi kahi is duniyaa me
hoti hai mohabbat kyaa kahiye
eji kyaa kahiye
gustaakhh zubaan gustaakhh nazar

aanchal ki dhanak ke saaye me
ye phul gulaabi chehro ke chehro ke
ye phul gulaabi haaye gulaabi chehro ke
hai gul bhi hai gulshan bhi hai
aur taaro ka jhurmat bhi
ye phul gulaabi chehro
ye phul gulaabi haaye gulaabi chehro ke
is vaqt hamaari nazro me
kyaa chiz hai jannat kyaa kahiye
eji kyaa kahiye
is vaqt hamaari nazro me

tumse nazare jo mili, din-o-duniyaa se gaye
ik tamnnaa ke sivaa, har tamnnaa se gaye
mast aankho se jo pi, jaam-o-minaa se gaye
zulf laharaai jahaan, ham bhi lahraa se gaye
hure milti hai kise, is ki parvaah se gaye
is ki parvaah se, parvaah se, parvaah se gaye
is vaqt hamaari nazro me
kyaa chiz hai jannat kyaa kahiye
eji kyaa kahiye
chaandi kaa badan sone ki nazar

yun garm nigaahe mat daalo
ye jism pighal bhi pighal bhi sakte hai
ye jism pighal, aa ye jism pighal bhi sakte hai
ye jism pighal bhi haay pighal bhi sakte hai
aadaab-e-nazaaraa bhule ho
tum logo ki vahshat kyaa kahiye
eji kyaa kahiye
aadaab-e-nazaaraa bhule ho

tum hame jit sako, is kaa imkaan nahi
khhud ko badnaam kare, ham vo naadan nahi
koi martaa hai mare, ham pe ehsaan nahi
un se kyun baat kare, jin se pahchaan nahi
tum ko armaan hai to hai, ham ko armaan nahi
ham ko armaan ke armaan ke armaan nahi
aadaab-e-nazaaraa bhule ho
aadaab-e-nazaaraa bhule ho
tum logo ki vahshat kyaa kahiye
eji kyaa kahiye

gustaakhh zubaan gustaakhh nazar
jin logo ko tum thukra ke chalo
vo log bhi kismat waale hai
vo log bhi kismat waale
vo log bhi kismat waale hai
vo log bhi kismat haay kismat waale hai
tum jin ki tamanna kar baitho
tum jin ki tamanna kar baitho
un logo ki kismat kya kahiye
eji kyaa kahiye

ye jawani ye ada kyu na magrur ho tum
farsh par utarti hui arsh ki hur ho tum
shokh jawo ki kasam shola-q-tur ho tum
koi dekhe to kahe nashe me choor ho tum
tum jin ki tamanna kar baitho
un log ki kismat kya kahiye
eji kyaa kahiye

chaandi kaa badan sone ki nazar
din raat duhaai dete hai
ye haal hai in divaano kaa
ye haal hai in divaano kaa
ye haal hai in divaano kaa
ye haal hai in divaano kaa
ye haal hai in divaano kaa
ye haal hai in divaano kaa
ye haal hai in divaano kaa
ye haal hai in divaano kaa

jahaan dekhi nai surat machal baithe
jahaan dekhi nai surat machal baithe
haay yahi, yahi, yahi lenge
ye haal hai in divaano kaa divaano kaa
ye haal hai in divaano kaa divaano kaa

jin ki khhaatir gam sahe aur ro-ro jaan gavaayen
haay ri qismat unhi ke munh se divaane kahlaayen
ke ab ye haal hai in divaano kaa divaano kaa
ye haal hai in divaano kaa divaano kaa

in aashiqo ke haath hai, ai zindagi bavaal
in kaa kare khyaal ke apnaa kare khyaal
har lab arz-e-shauq to, har aankh hai savaal 
har lab arz-e-shauq to, har aankh hai savaal 
ye gam se beqraar hai, vo dard se nihaal 
arey ye haal hai in divaano kaa 
ye haal hai in divaano kaa 

meri nind gai meraa chain gayaa
vo jo pahle thi taab-o-tabaan gai 
yahi rang rahaa yahi dhang rahaa
to ye jaan lo jaan ki jaan gai
ye haal hai in divaano kaa
ye haal hai in divaano kaa

kisi ko khudkhushi kaa shauq ho to kyaa kare koi
davaa-e-hijr de bimaar ko achhaa kare koi
koi bevajah sar phode to kyo parvaah kare koi
koi bevajah sar phode to kyo parvaah kare koi

mazaa hai jab ke tum, tum tadapaa karo
tadapaa kare tu, dekhaa kare koi
mare ham aur tum par, ke tum par khun kaa
khun kaa dava, dava kare koi
dava kare koi

ye haal hai in divaano kaa
ye haal hai in divaano kaa
ye haal hai in divaano kaa
ye haal hai in divaano kaa
ye haal hai in divaano kaa, divaano kaa

jite bhi nahi marte bhi nahi
bechaaro ki haalat kyaa kahiye
eji kyaa kahiye
gustaakhh zubaan gustaakhh nazar
ye rang-e-tabiyat kyaa kahiye
eji kyaa kahiye
chaandi kaa badan sone ki nazar 

चांदी का बदन सोने की नज़र
उस पर ये नजाकत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
चांदी का बदन सोने की नज़र
उस पर ये नजाकत हाय नजाकत क्या कहिये
किस किस पे तुम्हारे जलवो ने
तोड़ी है क़यामत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
चांदी का बदन सोने की नज़र

गुस्ताख जुबां गुस्ताख नज़र
ये रंग ए तबियत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
ऐसे भी कही इस दुनिया में
होती है मोहब्बत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
गुस्ताख जुबां गुस्ताख नजर

आँचल की धनक के साये में
ये फूल गुलाबी चेहरों के चेहरों के
ये फूल गुलाबी हाए गुलाबी चेहरों के
है गुल भी है गुलशन भी है
और तारों का झुरमत भी
ये फूल गुलाबी चेहरों
ये फूल गुलाबी हाय गुलाबी चेहरों के
इस वक्त हमारी नज़रों में
क्या चीज़ है जन्नत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
इस वक्त हमारी नजरो में

तुमसे नज़रे जो मिली , दिन ओ दुनिया से गए
इक तमन्ना के सिवा , हर तमन्ना से गए
मस्त आँखों से जो पी , जाम ओ मीना से गए
ज़ुल्फ़ लहरी जहाँ , हम भी लहरा गए
हर मिलती है किसे , इस की परवाह से गए
इस की परवाह से , परवाह से , परवाह से गए
इस वक्त हमारी नज़रों में
क्या चीज है जन्नत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
चांदी का बदन सोने की नजर

यूँ गर्म निगाहे मत डालो
ये जिस्म पिघल भी पिघल भी सकते है
ये जिस्म पिघल , आ ये जिस्म पिघल भी सकते हैं
ये जिस्म पिघल भी हाय पिघल भी सकते है
आदाब ए नजारा भूले हो
तुम लोगो की वहशत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
आदाब ए नजारा भूले हो

तुम हमें जित सको , इस का इमकान नहीं
खुद को बदनाम करे , हम वो नादान नहीं
कोई मरता है मरे , हम पे एहसान नहीं
उन से क्यों बात करे , जिन से पहचान नहीं
तुम को अरमान है तो है , हम को अरमान नहीं
हम को अरमान के अरमान के अरमान नहीं
आदाब ए नजारा भूले हो
आदाब ए नजारा भूले हो
तुम लोगो की विशात क्या कहिये
एजी क्या कहिये

गुस्ताख जुबां गुस्ताख नज़र
जिन लोगो को तुम ठुकरा के चलो
वो लोग भी किस्मत वाले है
वो लोग भी किस्मत वाले
वो लोग भी किस्मत वाले है
वो लोग भी किस्मत हाय किस्मत वाले है
तुम जिन की तमन्ना कर बैठो
तुम जिन की तमन्ना कर बैठो
उन लोगो की किस्मत क्या कहिये
एजी क्या कहिये

ये जवानी ये अदा क्यों ना मगरूर हो तुम
फर्श पर उतरती हुई अर्श की हर हो तुम
शोख जवो की कसम शोला क तुर हो तुम
कोई देखे तो कहे नशे में चूर हो तुम
तुम जिन की तमन्ना कर बैठो
उन लोग की किस्मत क्या कहिये
एजी क्या कहिये

चांदी का बदन सोने की नज़र
डी रात दुहाई देते है
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का

जहां देखि नयी सूरत मचल बैठे
जहां देखि नयी सूरत मचल बैठे
हाय यही , यही , यही लेंगे
ये हाल है इन दीवानों का दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का दीवानों का

जिन की खातिर गम सहे और रो रो जान गवाईं
हाय री किस्मत उन्ही के मुंह से दीवाने कहलायें
के अब हाल है इन दीवानों का दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का दीवानों का

इन आशिको के हाथ है , ऐ जिंदगी बवाल
इन का करे ख़याल के अपना करे ख़याल
हर लैब अर्ज़ ए शौक तो , हर आँख है सवाल
हर लैब अर्ज़ ए शौक तो , हर आँख है सवाल
ये गम से बेकरार है , वो दर्द से निहाल
अरे ये हाल है दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का

मेरी नींद गयी मेरा चैन गया
वो जो पहले थी तब ओ तबा गई
येही रंग रहा येही ढंग रहा
तो ये जान लो जान की जान गयी
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का

किसी को ख़ुदकुशी का शौक हो तो क्या करे कोई
दवा - हिजरे दे बीमार को अचा करे कोई
कोई बेवजह सर फोड़े तो क्यों परवाह करे कोई
कोई बेवजह सर फोड़े तो क्यों परवाह करे कोई

मजा है जब के तुम, तुम तडपा करो
तडपा करे तू , देखा करे कोई
मरे हम और तुम पर , के तुम पर खून का
खून का दावा , दावा करे कोई
दावा करे कोई

ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का , दिवानो का

जीते भी नहीं मरते भी नहीं
बेचारो की हालत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
गुस्ताख जुबां गुस्ताख नज़र
ये रंग ए तबियत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
चांदी बदन सोने की नज़र

406total visits,2visits today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *