Khuda E Bartar Teri Zameen Par Lyrics

khudaa-ae-bartaar teree jamin par
jamin kee khaatir yeh jang kyon hai
har ek fatah-o-jafar ke daaman pe
khun-e-insaan kaa rang kyon hai
khudaa-ae-bartaar teree jamin par
jamin kee khaatir yeh jang kyon hai

jamin bhee teree hain ham bhee tere
yeh milkiyat kaa savaal kya hai
yeh katl-o-khun kaa rivaaj kyon hai
yeh rasm-ae-jango-jadal kya hai
jinhe talab hai jahan bhar kee
unhee kaa dil itna tang kyon hai
khudaa-ae-bartaar

gharib maano sharif behano ko
amn-o-ijjat kee jindagee de
jinhe aata kee hai too ne taakat
unhe hidaayat kee roshanee de
saro me kibr-o-ghurur kyon hain
dilo ke shishe pe jang kyon hai
khudaa-ae-bartaarखुदा ए बरतर

khaja ke raste pe jaanevaalo ko 
bach ke aane kee rah dena
dilo ke gulshan ujad na jaaye
muhabbato ko panaah dena
jahan me jashn-e-vafa ke badle
yeh jashn-ae-tir-o-tafang kyon hai
khudaa-ae-bartaar teree jamin par
jamin kee khaatir yeh jang kyon hai
har ek fatah-o-jafar ke daaman pe
khun-e-insaan kaa rang kyon hai
khudaa-ae-bartaar

खुदा ऐ बरतर तेरी जमी पर 
जमी के खातिर ये जंग क्यों है
हर एक फतह ओ जफ़र के दामन पे
खून ए इसां का क्यों है
खुदा ऐ बरतर तेरी जमी पर 
जमीं की खातिर ये जंग क्यों है


जमीं भी तेरी हम भी तेरे
ये मिलकियत का सवाल क्या है
ये कातिल ओ खून का रिवाज क्यों है
ये रस्म ए जंगो जदल क्या है
जिन्हें तलब है जहाँ भर की
उन्ही का दिल इतना तंग क्यों है
खुदा ए बरतर

गरीब माओं शरीफ बहनों को
अमन ओ इज्जत की जिंदगी दे
जिन्हें अता की है तूने ताकत
उन्हें हिदायत की रोशनी दे
सरो में किब्र ओ गुरुर क्यों है
दिलो के शेषे पे जंग क्यों है
खुदा ए बरतर

खज़ा के रास्ते पे जाने वाले को
बच के आने की राह देना
दिलो की गुलशन उजड़ नहीं जाये
मुहबत्तों को पनाह देना
जहाँ में जश्न ए वफ़ा के बदले
ये जश्न ए तीर ओ तफंग क्यों है
खुदा ए बरतर तेरी जमीं पर
जमीं की खातिर ये जंग क्यों है
हर एक फतह ओ जफ़र के दामन पे
खून ए इंसान का रंग क्यों हैं
खुदा ऐ बरतर

839total visits,2visits today

Tagged .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *