Murli Bajake Mohana Lyrics in Hindi

murli bajaa ke mohna bhajan lyrics in hindi

murli bajaa ke mohna kyon kar liya kinara
murli bajaa ke mohna kyon kar liya kinara

apno se hay kaisa vyvhaar hai tumhaara
apno se hay kaisa vyvhaar hai tumhaara

murli bajaa ke mohna kyon kar liya kinara
murli bajaa ke mohna kyon kar liya kinara

dhudaa gali gali main khoja dagar dagar main
dhudaa gali gali main khoja dagar dagar main

man main yahi lagan hai, darshan mile dubaara
man main yahi lagan hai, darshan mile dubaara

murli bajaa ke mohna kyon kar liya kinara
murli bajaa ke mohna kyon kar liya kinara

apno se hay kaisa vyvhaar hai tumhaara
apno se hay kaisa vyvhaar hai tumhaara

murli bajaa ke mohna kyon kar liya kinara

madhuvan tumhi bataao mohan kahaa gaye hain
kaise jhulas gayaa hai komal badan tumhara
murli bajaa ke mohna kyon kar liya kinara

murli bajaa ke mohna kyon kar liya kinara
murli bajaa ke mohna kyon kar liya kinara

apno se hay kaisa vyavhaar hai tumhaara
apno se hay kaisa vyavhaar hai tumhaara

yamuna tumhi bataao , chaliya kahan gaya hai
tu bhi chali gayi hai kahti neel dhaara
murli bajaa ke mohna kyon kar liya kinara

duniya kahe deewani paagal kahe jamaana
tumko na bhool jaana humko nahi gawaara
murli bajaa ke mohna kyon kar liya kinara

radha ki peer krishna vyaakul hriday hi jaane
samjhega kya bhalaa vo jisko naa gum pyaara
murli bajaa ke mohna kyon kar liya kinara

मुरली बजा के मोहना क्यों कर लिया किनारा
मुरली बजा के मोहना क्यों कर लिया किनारा

अपनों से हाय कैसा व्यवहार है तुम्हारा 
अपनों से हाय कैसा व्यवहार है तुम्हारा

मुरली बजा के मोहना क्यों कर लिया किनारा
मुरली बजा के मोहना क्यों कर लिया किनारा

ढूंढा गली गली में, खोजा डगर डगर में
ढूंढा गली गली में, खोजा डगर डगर में

मन में यही लगन है, दर्शन मिले दुबारा
मन में यही लगन है, दर्शन मिले दुबारा

मुरली बजा के मोहना क्यों कर लिया किनारा
मुरली बजा के मोहना क्यों कर लिया किनारा

अपनों से हाय कैसा व्यवहार है तुम्हारा
अपनों से हाय कैसा व्यवहार है तुम्हारा

मुरली बजा के मोहना क्यों कर लिया किनारा

मधुबन तुम्ही बताओ, मोहन कहाँ गएँ है
कैसे झुलस गया है, कोमल बदन तुम्हारा
मुरली बजा के मोहना क्यों कर लिया किनारा

मुरली बजा के मोहना क्यों कर लिया किनारा
मुरली बजा के मोहना क्यों कर लिया किनारा

अपनों से हाय कैसा व्यवहार है तुम्हारा
अपनों से हाय कैसा व्यवहार है तुम्हारा

यमुना तुम्हीं बताओ, छलिया कहाँ गया है
तू भी चली गयी है , कहती नीलधारा
मुरली बजा के मोहना क्यों कर लिया किनारा

दुनिया कहे दीवानी पागल कहे ज़माना
तुमको ना भूल जाना हमको नहीं गवारा
मुरली बजा के मोहना क्यों कर लिया किनारा

राधा की पीर कृष्णा व्याकुल ह्रदय ही जाने
समझेगा क्या भला वो जिसको ना गम प्यारा
मुरली बजा के मोहना क्यों कर लिया किनारा

1218total visits,3visits today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *