Zindagi Ke Safar Mein Lyrics in Hindi Kishor Kumar

zindagi ke safar mein
guzar jate hain jo makam
woh phir nahin aate
woh phir nahin aate

zindagi ke safar mein
guzar jate hain jo makam
woh phir nahin aate
woh phir nahin aate

phool khilte hain
log milte hain ha
phool khilte hain
log milte hain magar
patjhad main jo phool
murjha jate hain
woh baharon ke aane se khilte nahin
kuchh log ek roz jo bichad jate hain
woh hazaron ke aane se milte nahin
umr bhar chahe koi pukara kare unka naam
woh phir nahin aate
woh phir nahin aate

aankh dhoka hai
kya bharosa hai
aankh dhoka hai kya bharosa hai suno
doston shak dosti ka dushman hai
apne dil me ise ghar banane na do
kal tadapna pade yaad me Jeene ki
rok lo roothkar unko jaane na do
baad me pyaar ke chahe bhejo hazaron salaam
woh phir nahi aate
woh phir nahi aate

subaah aati hai
raat jaati hai
subaah aati hai
raat jaati hai yuhi
waqt chalta hi rehta hai rookta nahi
ek pal me ye aage nikal jaata hai
aadmi theek se dekh paata nahin
aur parde pe manzar badal jaata hai
ek baar chale jaate hai
jo din raat subah shaam
woh, woh phir nahi aate
woh phir nahi aate
zindagi ke safar mein
guzar jate hain jo makam
woh phir nahin aate
woh phir nahin aate

ज़िन्दगी के सफ़र में
गुज़र जाते हैं जो मक़ाम
वो फिर नहीं आते
वो फिर नहीं आते

ज़िन्दगी के सफ़र में
गुज़र जाते हैं जो मक़ाम
वो फिर नहीं आते
वो फिर नहीं आते

Recommended for you  O Sathi Re Tere Bina Bhi Kya Jeena Lyrics in Hindi

फूल खिलते हैं
लोग मिलते हैं हा
फूल खिलते हैं
लोग मिलते हैं मगर
पतझड़ में जो फूल
मुरझा जाते हैं
वो बहारों के आने से खिलते नहीं
कुछ लोग एक रोज जो बिछड़ जाते हैं
वोह हज़ारों के आने से मिलते नहीं
उमर भर चाहे कोई पुकारा करे उनका नाम
वोह फिर नहीं आते
वोह फिर नहीं आते

आँख धोका है
क्या भरोसा है
आँख धोका है क्या भरोसा है
दोस्तों शक दोस्ती का दुश्मन है
अपने दिल में इसे घर बनाने ना दो
कल तड़पना पड़े याद में जीने की
रोक लो रूठकर उनको जाने ना दो
बाद में प्यार के चाहे भेजो हजारों सलाम
वो फिर नहीं आते
वो फिर नहीं आते

सुबह आती है
रात जाती है
सुबह आती है
रात जाती है युहीं
वक्त चलता ही रहता है रूकता नहीं
एक पल में ये आगे निकल जाता है
आदमी ठीक से देख पाता नहीं
और परदे पे मंज़र बदल जाता है
एक बार चले जाते है
जो दिन रात सुबह शाम
वो , वो फिर नहीं आते
वो फिर नहीं आते
जिंदगी के सफ़र में
गुजर जाते हैं जो मक़ाम
वो फिर नहीं आते
वो फिर नहीं आते

1059total visits,2visits today

Tagged , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *