चिंगारी कोई भड़के Chingari Koi Bhadke Lyrics in Hindi

Chingaaree Koee Bhadake
To Saawan Use Buzaaye
Saawan Jo Agan Lagaaye
Use Kaun Buzaaye
Patazad Jo Baag Ujaade
Wo Baag Bahaar Khilaaye
Jo Baag Bahaar Mein Ujade
Use Kaun Khilaaye

Hum Se Mat Poochho Kaise
Mandir Tootaa Sapanon Kaa
Logon Kee Baat Naheen Hai
Ye Kissaa Hain Apanon Kaa
Koee Dushman Thhens Lagaaye
To Meet Jiyaa Bahalaaye
Manameet Jo Ghaanw Lagaaye
Use Kaun Mitaye

Naa Jaane Kyaa Ho Jaataa
Jaane Hum Kyaa Kar Jaate
Peete Hain To Jindaa Hai
Naa Pite To Mar Jaate
Duniyaa Jo Pyaasaa Rakhe
To Madiraa Pyaas Buzaaye
Madiraa Jo Pyaas Lagaaye
Use Kaun Buzaaye..ooo

Maanaa Toofaan Ke Aage
Naheen Chalataa Jor Kisee Kaa
Maujon Kaa Dosh Naheen Hai
Ye Dosh Hain Aaur Kisee Kaa
Mazadhaar Mein Naiyyaa Dole
To Maanzee Paar Lagaaye
Maanzee Jo Naaw Dooboye
Use Kaun Bachaaye

चिंगारी कोई भड़के
तो सावन उसे बुझाये
सावन जो अगन लगाए
उसे कौन बुझाये
पतझड़ जो बाग़ उजाड़े
वो बाग़ बहार खिलाये
जो बाग़ बहार में उजड़े
उसे कौन खिलाये

हम से मत पूछो कैसे
मंदिर टूटा सपनो का
लोगों की बात नहीं है
ये किस्सा है अपनों का
कोई दुश्मन ठेस लगाये
तो मीत जिया बहलाए
मनमीत जो घाव लगाये
उसे कौन मिटाए

ना जाने क्या हो जाता
जाने हम क्या कर जाते
पीते हैं तो जिन्दा हैं
ना पीते तो मर जाते
दुनिया जो प्यासा रक्खे
तो मदिरा प्यास भुजाये
मदिरा जो प्यास लगाये
उसे कौन भुजाये .........ओ ओ ओ

माना तूफ़ान के आगे
नहीं चलता जोर किसी का
मौजों का दोष नहीं है
ये दोष है और किसी का
मज धारमें नैया डोले
तो मांझी पार लगाये
मांझी जो नाव डुबोये
उसे कौन बचाए

960total visits,2visits today

Tagged , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *