Ghar Aaja Pardesi Tera Des Bulaye Re Lyrics in Hindi

ho koyal kuke huk uthaye
yaado ki banduk chalaye
ho koyal kuke huk uthaye
yaado ki banduk chalaye
baago me jhulo ke mausam
vapas aaye re
ghar aaja pardesi tera
des bulaye re
ghar aaja pardesi tera
des bulaye re

ho baago me jhulo ke mausam
vapas aaye re
ghar aaja pardesi tera
des bulaye re
ghar aaja pardesi tera
des bulaye re

is gaav ki anpadh mitti
padh nahi sakti teri chiththi
ye mitti tu aakar chume
to is dharati ka dil jhume
mana tere hai kuchh sapne
par ham to hai tere apne
bhulne wale hamko teri
yaad sataye re
ghar aaja pardesi tera
des bulaye re
ghar aaja pardesi tera
des bulaye re

panghat pe aayi mutiya re
chham chham payal ki jhankare
kheto me lehrai sarso
kal parso me bite barso
aaj hi aaja gata hasta
tera rasta dekhe rasta
are jhuk jhuk gadi ki siti
aawaj lagaye re
ghar aaja pardesi tera
des bulaye re
ghar aaja pardesi tera
des bulaye re

hatho me puja ki thali
aayi raat suhago wali 
o chand ko dekhu
hath main jodu
karvachauth ka vrat me todu
tere hath se pikar pani
dasi se ban jau rani
aaj ki raat jo mange koi
wo pa jaye re
ghar aaja pardesi tera
des bulaye re
ghar aaja pardesi tera
des bulaye re

duniya ke dastur hai kaise
pagal dil majbur hai kaise 
ab kya sunana ab kya kehna
tere mere bich hi rehna
khatm hui ye aankh micholi
kal jayegi meri doli
meri doli meri arthi
na ban jaye re
ghar aaja pardesi tera
des bulaye re
ghar aaja pardesi tera
des bulaye re

Recommended for you  Anand Bakshi Songs Lyrics in Hindi

koyal kuke huk uthaye
yaado ki banduk chalaye
baago me jhulo ke mausam
vapas aaye re

हो कोयल कूके हूक उठाये
यादों की बन्दूक चलाये
हो कोयल कूके हूक उठाये
यादों की बन्दूक चलाये
बागो में झूलों के मौसम
वापस आये रे
घर आजा परदेसी तेरा
देस बुलाये रे
घर आजा परदेसी तेरा
देस बुलाये रे 

बागो में झूलों के मौसम
वापस आये रे
घर आजा परदेसी तेरा
देस बुलाये रे
घर आजा परदेसी तेरा
देस बुलाये रे

इस गाँव की अनपड़ मिटटी
पढ़ नहीं सकती तेरी चिठ्ठी
ये मिटटी तू आकर चूमे
तो इस धरती का दिल झूमे
माना तेरे है कुछ सपने
पर हम तो हैं तेरे अपने
भूलने वाले हमको तेरी
याद सताए रे
घर आजा परदेसी तेरा
देस बुलाये रे
घर आजा परदेसी तेरा
देस बुलाये रे

पनघट पे आई मुटिया रे
छम छम पायल की झंकारें
खेतों में लहराई सरसों
कल परसों मैं बीता बरसों
आज ही आजा गता हस्ता
तेरा रस्ता देखे रस्ता
अरे छुक छुक गाड़ी की सिटी
आवाज लगाये रे
घर आजा परदेसी तेरा
देस बुलाये रे
घर आजा परदेशी तेरा
देस बुलाये रे

हाथों में पूजा की थाली
आई रात सुहागों वाली
ओ चाँद को देखूं
हाथ मैं जोडू
कर्वाचोथ का व्रत मैं तोडूं
तेरे हाथ से पीकर पानी
दासी से बन जाऊं रानी
आज की रात जो मांगे कोई
वो पा जाये रे
घर आजा परदेसी तेरा
देस बुलाये रे
घर आजा परदेसी तेरा
देस बुलाये रे

दुनिया के दस्तूर हैं कैसे
पागल दिल मजबूर है कैसे
अब क्या सुनाना अब क्या कहना
तेरे मेरे बिच ही रहना
ख़त्म हुई ये आँख मिचोली
कल जाएगी मेरी डोली
मेरी डोली मेरी अर्थी
न बन जाये रे
घर आजा परदेसी तेरा
देस बुलाये रे
घर आजा परदेसी तेरा देस बुलाये रे
देस बुलाये रे

कोयल कूके हुक उठाये
यादों की बन्दूक चलाये
बागों में झूलों के मौसम
वापस आये रे

Recommended for you  Jeena Marna Lyrics in Hindi from Do Lafzon Ki Kahani

1839total visits,4visits today

Tagged , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *