Tum To Thehre Pardesi Lyrics in Hindi

tum to thehre paredesi
tum to thehre paredesi
saath kya nibhaogey

subah pahli gaadi se , ghar ko laout jaaoge
subah pahli gaadi se ....

jab tumhe akele main meri yaad aayegi
khinche khinche hue rahte ho, dhyan kiska hai
jaraa bataao to ye imtehaan kiska hai
hamen bhula do magar ye to yaad hi rahega
nai sadak pe puraana makaan kiska hai

jab tumhe akele main meri yaad aayegi
aasuon ki baarish main tum bhi bheeg jaaogey
tum to thehre paredesi
tum to thehre paredesi
saath kya nibhaogey

gam ki dhoop main dil ki hasraten na jal jaayen
tujhko dekhenge sitaare to jiya mangengey
aur pyase teri julfon se ghataa magenge
apne kandhey se dupatta na sarkne dena
varna budhey bhi jawaani ki dua magenge imaan se

gam ki dhoop main dil ki hasraten na jal jaayen
gesuon ke saaye main kab hame sulaoge
tum to thehre paredesi
tum to thehre paredesi
saath kya nibhaogey

mujhko katl kar daalo shouk se magar socho
is sahar e naamuraad ki ijjat karega kaoun
are ham bhi chale gaye to mohabbat karega kaun
is ghar ki dekhbhal ko veeraniya to hon
jaale hataa diye to hifajaat karega kaun
mujhko katl kar daalo shauk se magar socho
mere baad tum kis per ye bijliyan giraogey
tum to thehre paredesi
tum to thehre paredesi
saath kya nibhaogey

yun to jindagi apni maikade main gujari hain
askon main husn-o-rang samota rahaa hoon main
aanchal kisi ka thaam ke rota rahaa hoon main
nikhra hai jaa ke ab kahin chera saoour ka
barson ise sharaab se dhota rahaa hoon main

bahki hui bahaar ne peena sikha diya
peeta hai is garaj se ki jeena hai chaar din
marne ke intjaar ne peena sikha diya
yun to jindagi apni maikade main gujri hai
in nashili aankhon se kab hame pilaoge
tum to thehre paredesi
tum to thehre paredesi
saath kya nibhaogey

Recommended for you  Kya Dekhte Ho Surat Tumhari Lyrics in Hindi

kya karoge tum aakhir kabr per meri aakar
jab tumse ittephakan meri najar mili thi
ab yaad aa rahaa hai , shaayad vo janwari thi
tum yun mili dubara, phir maah ferwari main
jaise ki hamsafar hon , tum rah-e-jindagi main
kitna haseen jamana, aaya tha march lekar
raah-e-vafaa pe thi tum, vaadon ki torch lekar
bandha jo ahad-e-ulfat aprel chal rahaa tha
dunia badal rahi thi mausam badal rahaa tha
lekin mai jab aayi, jalne lagaa jamana
har shakhs ki jubaan per , tha bas yahi fasana
duniya ke dar se tumne, badli thi jab nigahen
tha june ka mahina, lab pe theen garm aahen
july main jo tumne , ki baatcheet kam
the aasmaan pe baadal , meri aankhen purnam
mah-e-agast main jab, barsaat ho rahi thi
bas aasuon ki baarish, din raat ho rahi thi
kuch yaad aa raha hai, vo maah tha sitambar
bheja tha tumne mujhko, tark-e-vafaa ka leter
tum gair ho rahi thi, october aa gaya tha
duniya badal chuki thi , mausam badal chuka tha
jab aa gaya november , aisi bhi raat aayi
mujhse tumhe chhudane , sajkar baraat aayi
bekaif tha disamber , jajbaat mar chuke the
mausam tha sard usme , arma bikhar chuke the
lekin ye kya bataaon , ab haal dusra hai
are vo saal dusra tha , ye saal dusra hai
kya karoge tum aakhir kabr per meri aakar
thodi der ro logey aur bhool jaoge
tum to thehre paredesi
tum to thehre paredesi
saath kya nibhaogey

tum to thehre paredesi
tum to thehre paredesi
saath kya nibhaogey

subah pahli gaadi se , ghar ko laout jaaoge
subah pahli gaadi se ....

Recommended for you  Pag Ghunghroo Bandh Meera Nachi lyrics in Hindi

तुम तो ठहरे परदेसी
तुम तो ठहरे परदेसी
साथ क्या निभाओगे

सुबह पहली गाड़ी से, घर को लौट जाओगे
सुबह पहली गाड़ी से...

जब तुम्हें अकेले में मेरी याद आएगी
खिंचे खिंचे हुए रहते हो, ध्यान किसका है
ज़रा बताओ तो ये इम्तेहान किसका है
हमें भुला दो मगर ये तो याद ही होगा
नई सड़क पे पुराना मकान किसका है

जब तुम्हें अकेले में मेरी याद आएगी
आँसुओं की बारिश में तुम भी भीग जाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी
तुम तो ठहरे परदेसी
साथ क्या निभाओगे

ग़म की धूप में दिल की हसरतें न जल जाएं
तुझको देखेंगे सितारे तो ज़िया मांगेंगे
और प्यासे तेरी जुल्फों से घटा मांगेंगे 
अपने कांधे से दुपट्टा न सरकने देना 
वरना बूढ़े भी जवानी की दुआ मांगेंगे ईमान से 

ग़म की धूप में दिल की हसरतें न जल जाएं 
गेसुओं के साए में कब हमें सुलाओगे 
तुम तो ठहरे परदेसी 
तुम तो ठहरे परदेसी 
साथ क्या निभाओगे 

मुझको क़त्ल कर डालो शौक़ से मगर सोचो 
इस शहर-ए-नामुराद की इज़्ज़त करेगा कौन 
अरे हम भी चले गए तो मुहब्बत करेगा कौन 
इस घर की देखभाल को वीरानियां तो हों 
जाले हटा दिये तो हिफ़ाज़त करेगा कौन 
मुझको क़त्ल कर डालो शौक़ से मगर सोचो 
मेरे बाद तुम किस पर ये बिजलियां गिराओगे 
तुम तो ठहरे परदेसी 
तुम तो ठहरे परदेसी 
साथ क्या निभाओगे 

यूं तो ज़िंदगी अपनी मैकदे में गुज़री है 
अश्क़ों में हुस्न-ओ-रंग समोता रहा हूँ मैं 
आंचल किसी का थाम के रोता रहा हूँ मैं 
निखरा है जा के अब कहीं चेहरा शऊर का 
बरसों इसे शराब से धोता रहा हूँ मैं 

बहकी हुई बहार ने पीना सिखा दिया 
पीता हूँ इस गरज़ से के जीना है चार दिन 
मरने के इंतज़ार ने पीना सीखा दिया 
यूं तो ज़िंदगी अपनी मैकदे में गुज़री है 
इन नशीली आँखों से कब हमें पिलाओगे 
तुम तो ठहरे परदेसी 
तुम तो ठहरे परदेसी 
साथ क्या निभाओगे 

क्या करोगे तुम आखिर कब्र पर मेरी आकर 
जब तुम से इत्तेफ़ाकन मेरी नज़र मिली थी 
अब याद आ रहा है, शायद वो जनवरी थी 
तुम यूं मिलीं दुबारा, फिर माह-ए-फ़रवरी में 
जैसे कि हमसफ़र हो, तुम राह-ए-ज़िंदगी में 
कितना हसीं ज़माना, आया था मार्च लेकर 
राह-ए-वफ़ा पे थीं तुम, वादों की टॉर्च लेकर 
बाँधा जो अहद-ए-उल्फ़त अप्रैल चल रहा था 
दुनिया बदल रही थी मौसम बदल रहा था 
लेकिन मई जब आई, जलने लगा ज़माना 
हर शख्स की ज़ुबां पर, था बस यही फ़साना 
दुनिया के डर से तुमने, बदली थीं जब निगाहें 
था जून का महीना, लब पे थीं गर्म आहें 
जुलाई में जो तुमने, की बातचीत कुछ कम 
थे आसमां पे बादल, और मेरी आँखें पुरनम 
माह-ए-अगस्त में जब, बरसात हो रही थी 
बस आँसुओं की बारिश, दिन रात हो रही थी 
कुछ याद आ रहा है, वो माह था सितम्बर 
भेजा था तुमने मुझको, तर्क़-ए-वफ़ा का लेटर 
तुम गैर हो रही थीं, अक्टूबर आ गया था 
दुनिया बदल चुकी थी, मौसम बदल चुका था 
जब आ गया नवम्बर, ऐसी भी रात आई 
मुझसे तुम्हें छुड़ाने, सजकर बारात आई 
बेक़ैफ़ था दिसम्बर, जज़्बात मर चुके थे 
मौसम था सर्द उसमें, अरमां बिखर चुके थे 
लेकिन ये क्या बताऊं, अब हाल दूसरा है 
अरे वो साल दूसरा था, ये साल दूसरा है 
क्या करोगे तुम आखिर कब्र पर मेरी आकर 
थोड़ी देर रो लोगे और भूल जाओगे 
तुम तो ठहरे परदेसी 
तुम तो ठहरे परदेसी 
साथ क्या निभाओगे 

Recommended for you  Enna Sona kyun Rabb Ne Banaya Lyrics in Hindi

तुम तो ठहरे परदेसी 
तुम तो ठहरे परदेसी 
साथ क्या निभाओगे 

सुबह पहली गाड़ी से, घर को लौट जाओगे 
सुबह पहली गाड़ी से... 

2673total visits,3visits today

Tagged .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *