Chana Jor Garam Lyrics in Hindi from Kranti

Song : Chana Jor Garam
Singer : Nitin Mukesh, Mohammed Rafi, Lata Mangeshkar, Kishor Kumar
Movie : Kranti (1981)
Lyrics : Santosh Anand

Tum tum tarara tum tum taram
tum tum tarara tum tum taram
tum tum taram taram tum tum taram taram
duniya ke ho lakh dharam
par apna ek dharam chana zor garam
chana zor garam babu
mai layi mazedar chana zor garam
chana zor garam babu
mai laya mazedar chana zor garam

mera chana bana hai aala
jisme dala garam masala
isko khayega dilwala chana zor garam
mera chana kha gaya gora mera chana kha gaya gora
kha ke ban gaya tagda ghoda maine pakadke use maroda
mar ke tangdi usko toda chana zor garam
mere chane ki ankh sharabi
sharabi chane ki ankh sharabi
ho iske dekho gaal gulabi
gulabi dekho gaal gulabi
ho iska koi nahi javabi iska koi nahi javabi
jaise koi kudi panjabi jaise koi kudi Panjabi
nache chhanan chhanan nache chhanan chhanan
kothe chadh ke tainu pukara sun le mere balam
chana zor garam chana zor garam babu
mai layi mazedar chana zor garam

mera chana kha gaye gore
gore mera chana kha gaye gore
o gore jo ginti me hai thode
o phir bhi mare hamko kode phir bhi mare hamko kode
tum tum taram taram tum tum taram taram
lakho kode tute phir bhi tuta na dam kham
chana zor garam chana zor garam babu
mai laya mazedar chana zor garam chana zor garam babu
mai laya mazedar chana zor garam
chana zor garam chana zor garam
chana zor garam chana zor garam
mera chana hai apni marzi ka marzi ka bhai marzi ka
mera chana hai apni marzi ka marzi ka bhai marzi ka
ye dushman hai khudgarzi ka khudgarzi ka khudgarzi ka
sar kafan bandh ke nikla haidiwana hai ye pagla hai
mera chana hai apni marzi ka marzi ka bhai marzi ka
apno se nata jodega gairo ke sar ko phodega
apna ye vachan nibhayega mati ka karz chukayega
chana hai apni marzi ka marzi ka bhai marzi ka

mit jane ko mit jayega azad vatan ko kar jayega
na to chori hai na to daka hai bas ye to ek dhamaka hai
dhamake me awaz bhi hai ek soz bhi hai ek saaz bhi hai
samjho to bat ye saaf bhi hai
aur na samjho to raz bhi hai
apni dharti apna hai gagan ye mera hai mera hai vatan
apni dharti apna hai gagan ye mera hai mera hai vatan
is par jo ankh uthayega zinda dafnaya jayega
mera chana hai apni marzi ka marzi ka bhai marzi ka
ye dushman hai khudgarzi ka khudgarzi ka khudgarzi ka
mera chana hai apni marzi ka marzi ka bhai marzi ka
ye dushman hai khudgarzi ka khudgarzi ka khudgarzi ka

तुम तुम तरारा तुम तुम तरम
तुम तुम तरारा तुम तुम तरम
तुम तुम तरम तरम तुम तुम तरम तरम
दुनिया के हो लाख धरम
पर अपना एक धराम चना जोर गरम
चना जोर गरम बाबू
मैं मजेदार चना जोर गरम
चना जोर गरम बाबू
मैं मजेदार चना जोर गरम

मेरे चना बना है आला
जिसमे डाला गरम मसाला
इसको खायेगा दिलवाला चना जोर गरम
मेरे चना खा गया गोरा मेरे चना खा गया गोरा
खा के बन गया तगड़ा मैंने पकडके उसे मरोड़ा
मर के टंगड़ी उसको तोडा चना जोर गरम
मेरे चने की आंख शराबी
शराबी चना की आंख शराबी
हो इसके देखो गाल गुलाबी
गुलाबी देखो गाल गुलाबी
हो इसका कोई नहीं जवाबी इसका कोई नहीं जवाबी
जैसे कोई कुड़ी पंजाबी जैसे कोई कुड़ी पंजाबी
नाचे छनन छनन नाच छनन छनन
कोठे चढ़ के तैनू पुकारा सुन ले मेरे बालम
चना जोर गरम चना जोर गरम बाबू
मैं मज़ेदार चना जोर गरम

मेरे चना खा गए गोर
गोर मेरे चना खा गए गोर
ओ गोर जो गिनती में है थोड़े
ओ फिर भी मारे हमको कोड़े फिर भी मारे हमको कोड़े
तुम तुम तरम तुम तुम तरम तरम
लाखो कोड़े टूटे फिर भी टुटा न दम ख़म
चना जोर गरम चना जोर गरम बाबू
मैं लाया मजेदार चना जोर गरम चना जोर गरम बाबू
मैं लाया मज़ेदार चना जोर गरम
चना जोर गरम चना जोर गरम
चना जोर गरम चना जोर गरम
मेरा चना है अपनी मर्ज़ी का मर्जि का भाई मर्ज़ी का
मेरा चना है अपनी मर्ज़ी का मर्जि का भाई मर्ज़ी का
ये दुश्मन हैं खुदगर्जी का खुदगर्जी का खुदगर्जी का
सर कफन बांध के निकला है दीवाना है ये पगला है
मेरा चना है अपनी मर्ज़ी का मर्जि का भाई मर्ज़ी का
अपने से नाथ जोड़ेगा गिरो के सर को फोड़ेगा
अपना वचन निभाएगा मति का कर्ज चुकाएगा
चना है अपनी मर्ज़ी का मर्जि का भाई मर्ज़ी का

मिट जाने को मिट जायेगे आजाद वतन को कर जायेंगे
न तो चोरी है न तो डाका हैं बस ये तो एक धमाका है
धमाके में आवाज भी है एक सोच भी है साज़ भी है
समझो तो बात साफ भी है
और न समझो तो राज भी है
अपनी धरती अपना है गगन ये मेरा है मेरा है वतन
अपनी धरती अपना है गगन ये मेरा है मेरा है वतन
इस पर जो आंख उठाएगा जिंदा दफनाया जायगा
मेरे चला है अपनी मर्जी का मर्जी का मर्जी का
ये दुश्मन है खुदगरजी का खुदगरजी का खुदगरजी का
मेरे चला है अपनी मर्जी का मर्जी का मर्जी का
ये दुश्मन है खुदगर्जी का खुदगर्जी का खुदगर्जी का

1257total visits,1visits today

Tagged , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *