Tujhe Chaha Rab Se Bhi Zyada Lyrics in Hindi


Song: Tujhe chaha Rab se bhi zyada
Singers: Neha Kakkar
Backing Vocals: Amit Gupta
Music: Gourov Roshin
Lyrics: Kumaar

Dard bhara dil mein itna ke
Rone ko dil karda
Tere bina bejaan sa ab toh
Hone ko dil karda

Aa…

Tujhe chaha Rab se bhi zyada
Tujhe chaha Rab se bhi zyada
Phir bhi na tujhe pa sake
Rahe tere dil mein magar
Teri dhadkan tak na jaa sake

Judke bhi tooti rahi ishqe di dor ve
Kisko sunaye jaake toote dil ka shor ve

Maahi ve mohabbatan sachiyan ne
Mangda naseeba kujh hor ae
O maahi ve mohabbatan sachiyan ne
Mangda naseeba kujh hor ae

Kismat de maare asi ki kariye
Kismat de maare asi ki kariye
Kismat de maare ho asi ki kariye
Kismat te kisda zor ae
Maahi ve… maahi ve..

Dard bhara dil mein itna ke
Rone ko dil karda
Tere bina bejaan sa ab toh
Hone ko dil karda

Waqt ka karam hai ke tu
Baitha hai mere rubaroo
Hai ishq kitna tujhse
Lafzon mein kaise main kahun

Ik nazar tu dekh le bas meri or ve
Kisko sunaye jaake toote dil ka shor ve

Mahi ve mohabbatan sachiyan ne
Mangda naseeba kujh hor ae
O mahi ve mohabbatan sachiyan ne
Mangda naseeba kujh hor ae

Kismat de maare asi ki kariye
Kismat de maare asi ki kariye
Kismat de maare ho asi ki kariye
Kismat te kisda zor ae
Maahi ve… maahi ve..
Maahi ve… maahi ve..

Tujhko bana kar zindagi
Maine toh har pal saans li
Tu faaslon pe hai toh
Door dil se dhadkan hai kahin

Recommended for you  Chhod Do Khud Ko Aise Meri Baahon Mein Jaise Hawaaon Mein Baadal Koi

Na rahe tanhaiyon ka hai jo daur hai
Kisko sunaye jaake toote dil ka shor ve

Mahi ve mohabbatan sachiyan ne
Mangda naseeba kujh hor ae
O mahi ve mohabbatan sachiyan ne
Mangda naseeba kujh hor ae

Kismat de maare asi ki kariye
Kismat de maare asi ki kariye
Kismat de maare ho asi ki kariye
Kismat te kisda zor ae
Maahi ve… maahi ve..
Maahi ve… maahi ve..

Dard bhara dil mein itna ke
Rone ko dil karda
Tere bina bejaan sa ab toh
Hone ko dil karda

Dard bhara dil mein itna ke
Rone ko dil karda
Tere bina bejaan sa ab toh
Hone ko dil karda

दर्द भरा दिल में इतना के
रोने को दिल करदा
तेरे बिना बेजान सा अब तो
होने को दिल करदा

आ .....

तुझे चाहा रब से भी ज्यादा
तुझे चाहा रब से भी ज्यादा
फिर भी ना तुझे पा सके
रहे तेरे दिल में मगर
तेरी धड़कन तक ना जा सके

जुडके भी टूटी रही इश्क दी डोर वे
किसको सुनाये जाके टूटे दिल का शोर वे

माही वे मोहब्बता सचियाँ ने
मंगदा नसीबा कुझ होर ऐ
ओ माही वे मोहब्बता सचियाँ ने
मंगदा नसीबा कुझ होर ऐ

किस्मत दे मारे असी की करिए
किस्मत दे मारे असी की करिए
किस्मत दे मारे हो असी की करिए
किस्मत ते किसदा जोर ऐ
माहि वे ......माहि वे ........

दर्द भरा दिल में इतना के
रोने को दिल करदा
तेरे बिना बेजान सा अब तो
होने को दिल करदा

वक्त का करम है के तू
बैठा है मेरे रूबरू
है इश्क कितना तुझसे
लफ़्ज़ों में कैसे मैं कहूँ

इक नज़र तू देख ले बस मेरी और वे
किसको सुनाये जाके टूटे दिल का शोर वे

माहि वे मोह्ब्बता सचियाँ ने
मंगदा नसीबा कुझ होर ऐ
ओ माहि वे मोह्ब्बता सचियाँ ने
मंगदा नसीबा कुझ होर ऐ

किस्मत दे मारे असी की करिए
किस्मत दे मारे असी की करिए
किस्मत दे मारे हो असी की करिए
किस्मत ते किसदा जोर ऐ
माहि वे ..... माहि वे .........
माहि वे ..... माहि वे .........

तुझको बना कर ज़िन्दगी
मैंने तो हर पल सांस ली
तू फासलों पे है तो
दूर दिल से धड़कन है कहीं

ना रहे तनहाइयों का है जो दौर है
किसको सुनाये जाके टूटे दिल का शोर वे

माहि वे मोह्ब्बता सचियाँ ने
मंगदा नसीबा कुझ होर ऐ
ओ माहि वे मोह्ब्बता सचियाँ ने
मंगदा नसीबा कुझ होर ऐ

किस्मत दे मारे असी की करिए
किस्मत दे मारे असी की करिए
किस्मत दे मारे हो असी की करिए
किस्मत ते किसदा जोर ऐ
माहि वे ..... माहि वे .........
माहि वे ..... माहि वे .........

दर्द भरा दिल मैं इतना के
रोने को दिल करदा
तेरे बिना बेजान सा अब तो
होने को दिल करदा

दर्द भरा दिल मैं इतना के
रोने को दिल करदा
तेरे बिना बेजान सा अब तो
होने को दिल करदा

25508total visits,21visits today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *