Dekhiye Sahibo Woh Koi Aur Thi Lyrics in Hindi

Song : Dekhiye Sahibo Woh Koi Aur Thi
Singer : Mohammed Rafi, Asha Bhosle
Movie : Teesri Manzil(1966)
Lyrics : Majrooh Sultanpuri

Dekhiye saahibo vo koi aur thi
aur ye naazani hai meri, mai inpe marta hu
dekhiye saahibo vo koi aur thi
aur ye naazani hai meri,
samajha tha mai ye hai khadi
lekin vaha koi aur thi,
inke liye ai mohataram
chheda kisi aur ko tha khuda ki qasam
dekhiye saahibo vo koi aur thi
aur ye naazani hai meri,
mai inpe marta hu 

logo kehne do isko ye hai koi divaana
mai na jaanu kisi ko itna mera fasana
ek dam galat fasana hai
ek dam galat fasana hai,
inse to purana hai apna silsila
dekho to pyaar inko bhi hai
mera khumaar inko bhi hai,
inke liye ai mohataram
chheda kisi aur ko tha khuda ki qasam
dekhiye saahibo vo koi aur thi
aur ye naazani hai meri,
mai inpe marta hu

mai ne kab isko chaaha kah do itna na pheke
aashiq banane se pehle apni surat to dekhe
surat bhali buri kya hai
surat bhali buri kya hai,
sauda to nazar ka hai
sauda pyaar ka, inko kaha gam dosto
rusva huye ham dosto,
inke liye ai mohataram
chheda kisi aur ko tha khuda ki qasam
dekhiye saahibo vo koi aur thi
aur ye naazani hai meri,
mai inpe marta hu 

haay haay dekho to isko bole hi ja raha hai
ulajhi baato me zaalim sabko ulajha raha hai
sach ban gaya agar ulajhan
sach ban gaya agar ulajhan phir kahiye janaab-e-man
meri kya khata, mujh par yaki ab kam sahi
mai saada dil mujrim sahi, inke liye ai mohataram
chheda kisi aur ko tha khuda ki qasam
dekhiye saahibo vo koi aur thi
aur ye naazani hai meri,
mai inpe marta hu
dekhiye saahibo vo koi aur thi
aur ye naazani hai meri,
mai inpe marta hu 

देखिये साहिबो वो कोई और थी
और ये नाज़नी है मेरी, मैं इनपे मरता हूँ
देखिये साहिबो वो कोई और थी
और ये नाज़नी है मेरी
समझा था मै ये है ख़ड़ी
लेकिन वहा कोई और थी,
इनके लिए ऐ मोहतरमा
छेड़ा किसी और को था खुदा की क़सम
देखिये साहिबो वो कोई और थी
और ये नाज़नी है मेरी, मैं इनपे मरता हूँ

लोगो कहने दो इसको ये है कोई दीवाना
मैं न जानू किसी को इतना मेरा फ़साना
एक दम गलत फ़साना है
एक दम गलत फ़साना है इनसे तो पुराना है अपना सिलसिला
देखो तो प्यार इनको भी है
मेरा खुमार इनको भी हैं, इनके लिए ऐ मोहतरम
छेड़ा किसी और को था खुदा की क़सम
देखिये साहिबो वो कोई और थी
और ये नाज़नी है मेरी, मैं इनपे मरता हूँ

मैंने कब इसको चाहा कह दो इतना ना फेके
आशिक बनाने से पहले अपनी सूरत तो देखे
सूरत भली बुरी क्या हैं
सूरत भली बुरी क्या हैं, सौदा तो नज़र का है
सौदा प्यार का, इनको कहा गम दोस्तों
रुसवा हुए हम दोस्तों, इनके लिए ऐ मोहतरम
छेड़ा किसी और को था खुदा की क़सम
देखिये साहिबो वो कोई और थी
और ये नाज़नी है मेरी, मैं इनपे मरता हूँ

हाय हाय देखो तो इसको बोले ही जा रहा है
उलझी बातो में ज़ालिम सबको उलझा रहा हैं
सच बन गया अगर उलझन
सच बन गया अगर उलझन फिर कहिये जनाब-ऐ-मन
मेरी क्या खता, मुझ पर यकीं अब कम सही
मैं सादा दिल मुजरिम सही, इनके लिए ई मोहतरम
छेड़ा किसी और को था खुदा की क़सम
देखिये साहिबो वो कोई और थी
और ये नाज़नी है मेरी, मैं इनपे मरता हूँ
देखिये साहिबो वो कोई और थी
और ये नाज़नी है मेरी, मैं इनपे मरता हु 

441total visits,1visits today

Tagged , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *