O Haseena Zulfon Wali Lyrics in Hindi

Song : O Haseena Zulfon Wali
Singer : Mohammed Rafi, Asha Bhosle
Album : Teesri Manzil(1966)
Lyrics : Nasir Hussain

o hasina zulfo vali janejahan
dhundhati hai kafir ankhe kisaka nisha
o hasina zulfo vali janejahan
dhundhati hai kafir ankhe kisaka nisha
mahafil mahafil ai shama phirati ho kahan
mahafil mahafil ai shama phirati ho kahan
vo anjana dhundhati hun vo divana dhundhati hun
jalakar jo chhip gaya hai vo paravana dhundhati hun 

garm hai, sez hai, ye nigahe meri
kam a, jayegi sard, ahe meri
tum kisi, rah me, to miloge kahi
are ishq hun, mai kahi thaharata hi nahi
mai bhi hun galiyo ki parachhai kabhi yahan kabhi vahan
sham hi se kuchh ho jata hai mera bhi jadu java
o hasina zulfo vali janejahan
dhundhati hai kafir ankhe kisaka nisha
mahafil mahafil ai shama phirati ho kahan
mahafil mahafil ai shama phirati ho kahan
vo anjana dhundhati hun vo divana dhundhati hun
jalakar jo chhip gaya hai vo paravana dhundhati hun

chhip rahe, hai ye, kya dhag hai apaka
aaj to, kuchh naya, rag hai apaka
hai aaj ki, rat mai, kya se kya ho gayi
aha apaki sadagi, to bhala ho gayi
mai hi hun galiyo ki parachhai kabhi yahan kabhi vahan
sham hi se kuchh ho jata hai mera bhi jadu java
o hasina zulfo vali janejahan
dhundhati hai kafir ankhe kisaka nisha
mahafil mahafil ai shama phirati ho kahan
mahafil mahafil ai shama phirati ho kahan
vo anjana dhundhati hun vo divana dhundhati hun
jalakar jo chhip gaya hai vo paravana dhundhati hun 

thahariye, to sahi, kahiye kya nam hai
meri badanamiyo ka vafa nam hai
oho qatl kar ke chale ye vafa, khub hai
hai nada teri, ye ada, khub hai
mai bhi hun galiyo ki parachhai kabhi yahan kabhi vahan
sham hi se kuchh ho jata hai mera bhi jadu java
o hasina zulfo vali janejahan
dhundhati hai kafir ankhe kisaka nisha
mahafil mahafil ai shama phirati ho kahan
mahafil mahafil ai shama phirati ho kahan
vo anjana dhundhati hun vo divana dhundhati hun
jalakar jo chhip gaya hai vo paravana dhundhati hun  

ओ हसीना जुल्फों वाली जानेजहाँ
ढूंडती है काफ़िर आंखे किसका निशा
ओ हसीना जुल्फों वाली जानेजहाँ
ढूंडती है काफ़िर आंखे किसका निशा
महफ़िल महफिल ऐ शमा फिरती हो कहाँ
महफ़िल महफिल ऐ शमा फिरती हो कहाँ
वो अंजाना ढूंढती हूँ वो दीवाना ढूंढती
जलाकर जो छिप गया है वो परवाना ढूंढती हूँ

गर्म है, सेज है, ये निगाहे मेरी
काम आ जाएगी, सर्द आहे मेरी
तुम किसी, राह में, तो मिलोगे कही
अरे इश्क हूँ, मैं कही ठहरता ही नहीं
मैं भी हूँ गलियों की परछाई कभी यहाँ कभी वहां
शाम ही से कुछ हो जाता है मेरा भी जादू जवा
ओ हसीना जुल्फों वाली जानेजहाँ
ढूंडती है काफ़िर आंखे किसका निशा
महफ़िल महफिल ऐ शमा फिरती हो कहाँ
महफ़िल महफिल ऐ शमा फिरती हो कहाँ
वो अंजाना ढूंढती हूँ वो दीवाना ढूंढती हूँ
जलाकर जो छिप गया है वो परवाना ढूंढती हूँ

छिप रहे, है ये, क्या ढंग है आपका
आज तो, कुछ नया, राग है आपका
है आज की, रात मैं क्या से क्या हो गयी
आहा आपकी सादगी, तो भला हो गयी
मैं ही हूँ गलियों परछाई कभी यहाँ कभी वहां
शाम ही से कुछ हो जाता है मेरा भी जादू जवा
ओ हसीना जुल्फों वाली जानेजहाँ
ढूंडती है काफ़िर आंखे किसका निशा
महफ़िल महफिल ऐ शमा फिरती हो कहाँ
महफ़िल महफिल ऐ शमा फिरती हो कहाँ
वो अंजाना ढूंढती हूँ वो दीवाना ढूंढती हूँ
जलाकर जो छिप गया है वो परवाना ढूंढती हूँ

ठहरिये,तो सही,कहिये क्या नाम है
मेरी बदनामियो का वफ़ा नाम हैं
ओहो क़त्ल कर के चले ये वफ़ा, खूब है
हैं नाडा तेरी, ये अदा, खूब हैं
मैं भी हूँ गलियों की परछाई कभी यहाँ कभी वहां
शाम ही से कुछ हो जाता हैं मेरा भी जादू जावा
ओ हसीना जुल्फों वाली जानेजहाँ
ढूंडती है काफ़िर आंखे किसका निशा
महफ़िल महफिल ऐ शमा फिरती हो कहाँ
महफ़िल महफिल ऐ शमा फिरती हो कहाँ
वो अंजाना ढूंढती हूँ वो दीवाना ढूंढती हूँ
जलाकर जो छिप गया है वो परवाना ढूंढती हूँ

607total visits,1visits today

Tagged , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *