Shisha Ho Ya Dil Ho Lyrics in Hindi

Song : Sheesha Ho Ya Dil Ho
Singers: Lata Mangeshkar
Movie : Aasha (1980)
Lyrics : Kaifi Azmi

Ho aa aa
shisha ho ya dil ho
shisha ho ya dil ho
aakhir
tut jata hai
tut jata hai
tut jata hai
tut jata hai 

lab tak aate aate hatho se sagar
chut jata hai
chut jata hai
chut jata hai

shisha ho ya dil ho,
aakhir
tut jata hai

ho
kafi bas arman nahi,
kuchh milna aasan nahi
duniya ki majburi hai,
phir taqdir jaruri hai
yeh jo dushman hai aise, dono razi ho kaise
ek ko manao to duja
ruth jata hai
ruth jata hai
ruth jata hai

shisha ho ya dil ho, aakhir tut jata hai

baithe the kinare pe,
maujo ke ishare pe
maujo ke ishare pe 

ham khele tufano se,
is dil ke armano se
hamko ye malum na tha,
koyi sath nahi deta
koyi sath nahi deta
majhi chhod jata hai,
saahil
chut jata hai
chut jata hai
chut jata hai
shisha ho ya dil ho
shisha ho ya dil ho
aakhir
tut jata hai
tut jata hai
tut jata hai
tut jata hai
shisha ho ya dil ho

duniya ek tamasha hai,
aasha aur nirasha hai
thode phul hai kante hai,
jo taqdir ne bante hain
apna apna hissa hai,
apna apna kissa hai
koi lut jata hai, koi
lut jata hai
lut jata hai
lut jata hai
shisha ho ya dil ho,
aakhir
tut jata hai
tut jata hai
tut jata hai
tut jata hai

Recommended for you  Amitabh Bachchan Movie songs list

lab tak aate aate hatho se sagar
chut jata hai
chut jata hai
chut jata hai
shisha ho ya dil ho 

हो आ आ
शीशा हो या दिल हो
शीशा हो या दिल हो

आखिर
टूट जाता हैं
टूट जाता हैं
टूट जाता हैं
टूट जाता हैं

लब तक आते आते हाथो से सागर
छूट जाता हैं
छूट जाता हैं
छूट जाता हैं
शीशा हो या दिल हो, आखिर टूट जता है

हो
काफी बस अरमान नहीं,
कुछ मिलना आसान नहीं
दुनिया की मजबूरी है, फिर तकदीर हैं जरूरी है
यह जो दुश्मन हैं ऐसे, दोनों राज़ी हो कैसे
एक को मनाओ तो दूजा
रूठ जाता है
रूठ जाता है
रूठ जाता है

शीशा हो या दिल हो,
आखिर टूट जाता है,
आखिर टूट जाता है

बैठे थे किनारे पे,
मौजो के इशारे पे
बैठे थे किनारे पे,
मौजो के इशारे पे

हम खेले तूफानों से
इस दिल के अरमानो से
हम को मालूम न था,
कोई साथ नहीं देगा
कोई साथ नहीं देगा

माझी छोड़ जाता हैं,
साहिल
छूट जाता है
छूट जाता है
छूट जाता है

शीशा हो या दिल हो
शीशा हो या दिल हो
आखिर
टूट जाता है
टूट जाता है
टूट जाता है
टूट जाता है
दुनिया एक तमाशा हैं,
आशा और निराशा हैं
थोड़े फूल हैं कांटे हैं, जो तकदीर ने बांटे हैं
अपना अपना हिस्सा है अपना अपना किस्सा है

कोई लुट जाता हैं,
कोई
लूट जाता हैं
लूट जाता हैं
लूट जाता हैं

शीशा हो या दिल हो,
आखिर
टूट जाता है
टूट जाता है
टूट जाता है
टूट जाता है

लब तक आते आते हाथो से सागर
छूट जाता हैं
छूट जाता हैं
छूट जाता हैं
शीशी हो या दिल हो 

Recommended for you  Chana Jor Garam Lyrics in Hindi from Kranti

1641total visits,3visits today

Tagged .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *