Is Jahan Ka Pyar Jhoota Lyrics in Hindi

Song : Is Jahan Ka Pyar Jhoota
Singer : Manna Dey, Mohammed Rafi, Asha Bhosle
Movie : Amar Deep (1958)
Lyrics : Rajendra Krishan

is jaha ka pyar jhutha yar ka ikrar jhutha
ha bhi jhuthi na bhi jhuthi sara karobar jhutha
is jaha ka pyar jhutha yar ka ikrar jhutha
pahle khat likhte the aashik apne dil ke khun se
ab to khusbu itar ki aane lagi hai us majmun se
ha ha us majmun se dil ka har diwar jhutha
maut ka bhi pyar jhutha ha bhi jhuthi na bhi jhuthi
sara karobar jhutha is jaha ka pyar jhutha
yar ka ikrar jhutha

ghumti firti hai ghumti firti hai laila
ab to motar car me ab to motar car me
or cycle pe miya majnu mile bazar me
ho uth or mahmil kaha ab to hotel hai miya
jab masuri ko chali jati hai shiri june me
to miya farhad aa jate hai dehradhun me
ab na tesha na pahad ishq ka gulshan ujad
ful jhute khar jhuthe pyar ka guljar jhutha
pyar ka guljar jhutha ha bhi jhuthi na bhi jhuthi
sara karobar jhutha is jaha ka pyar jhutha
yar ka ikrar jhutha

ab kaha wo pahle jaise dilbari ke rang bhi
haye dilbari ke rang bhi kya se kya ho gaye
ab aashiqi ke dhang bhi ishq ke rang bhi
dilbari ke rang bhi ishq ka izhar bhi jhutha
ha bhi jhuthi na bhi jhuthi sara karobar jhutha
is jaha ka pyar jhutha yar ka ikrar jhutha

इस जहा का प्यार झूठा यार का इकरार झूठा
हा भी झूठी न भी झूठी सारा कारोबार झूठा
इस जहा का प्यार झूठा या का इकरार झूठा
इस जहा का प्यार झूठा यार का इकरार झूठा

पहले ख़त लिखते थे आशिक अपने दिल के खून से
अब तो खुसबू इतर की आने लगी है उस मजमून से
हा हा उस मजमून से दिल का हर बीमार झूठा
मौत का भी प्यार झूठा
हा भी झूठी न भी झूठी
सारा कारोबार झूठा इस जहा का झूठा
यार का इकरार झूठा

घूमती फिरती है घुमती फिरती है लैला
अब तो मोटर कार में अब तो मोटर कार में
और साइकिल पे मिया मजनू मिले बाज़ार में
हो ऊँट और महमिल कहा अब तो होटल है मिया
जब मसूरी को चली जाती है शिरी जून में
तो मिया फरहद आ जाते है देहरादून में
अब न तेष न पहाड़ इश्क का गुलशन उजाड़
फूल झूटे खत झूठे प्यार का गुलजार झूठा
प्यार का गुलजार झूठा हाँ भी झूठी ना भी झूठी
सारा कारोबार झूठा इस जहा का प्यार झूठा
यार का इकरार झूठा

अब कहा वो पहले जैसे दिलबरी के रंग भी
हाय दिलबरी के रंग भी क्या से क्या हो गए
अब आशिकी के ढंग भी इश्क के रंग भी
दिलबरी के रंग भी इश्क का इज़हार भी झूठा
हा भी झूठी न भी झूठी सारा कारोवार झूठा
इस जहां का प्यार झूठा यार का इकरार झूठा

412total visits,1visits today

Tagged , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *