Kranti Ab Ke Baras Ab Ke Baras Lyrics in Hindi

Song : Ab Ke Baras Tujhe Dharti Ki Rani Kar Denge
Singer : Mahendra Kapoor,
Movie : Kranti (1981)
Lyrics : Santosh Anand

Ab ke baras ab ke baras
Tujhe dharti ki rani kar denge
Ab ke baras ab ke baras
Tujhe dharti ki rani kar denge
Ab ke baras

Ab ke baras teri pyaason
Me paani bhar denge
Ab ke baras teri chunar
Ko dhaani kar denge
Ab ke baras
Ye duniya to faani hai ho
Behta sa paani hai ho
Tere hawaale ye zindgaani
Ye zindgaani kar denge
Ab ke baras ab ke baras
Tujhe dharti ki rani kar denge
Ab ke baras

Duniya ki saari daulat se
Izzat hum ko pyaari
Mutthi me kismat hai apni
Hum ko mehnat pyaari
Mitti ki keemat ka jag mein
Koi ratan nahi hai
Zillat ke jeevan se badtar
Koi kafan nahi hai

Desh ka har deewana apne
Pran cheer kar bola
Balidaano ke khoon se apna
Rang lo basanti chola
Ab ke humne jaani hai ho
Apne mann mein thaani hai ho
Hamlaawaro ki khatam kahani
Khatam kahani kar denge
Ab ke baras ab ke baras
Tujhe dharti ki rani kar denge
Ab ke baras

Sukh sapno ke saath hazaaron
Dukh bhi tu ne jhele
Hasi khushi se bheege phaagun
Ab tak kabhi na khele
Chaaron or hamaare
Bikhre baroodi afsaane
Jalti jaati shama jalte
Jaate hain parwaane

Phir bhi hum zinda hain
Apne balidaano ke bal par
Har shaheed farmaan de gaya
Seema par jal jal kar
Yaaron toot bhale hi jaana
Lekin kabhi na jhukna
Kadam kadam par maut milegi
Lekin phir bhi kabhi na rukna

Bahut seh liya ab na sahenge
Seene bhadak uthe hai
Nas nas mein bijli jagi hai
Baazoo fadak uthe hain
Singhaasan ki khayi karo
Zulmo ke thekedaaron

Desh ke bete jaag uthe
Tum apni maut nihaaro
Angaaro ka jashan banega
Har shola jaagega
Balidano ki is dharti se
Har dushman bhaagega

Humne kasam nibhani hai
Deni har qurbani hai
Humne kasam nibhaani hai
Deni har qurbani hai
Apne saron ki apne saron ki
Antim nishaani bhar denge
Ab ke baras ab ke baras

अब के बरस
अब के बरस तुझे धरती की रानी कर देंगे

अब के बरस तेरी प्यासों मे पानी भर देंगे
अब के बरस तेरी चुनर को धानी कर देंगे
अब के बरस
ये दुनिया तो फानी है हो
बहता सा पानी है हो
तेरे हवाले ये ज़िंदगानी
ये ज़िंदगानी कर देंगे
अब के बरस
अब के बरस तुझे धरती की रानी कर देंगे
अब के बरस

दुनिया की सारी दौलत से
इज़्ज़त हम को प्यारी
मुट्ठी मे किस्मत है अपनी
हम को मेहनत प्यारी
मिट्टी की कीमत का जग में
कोई रतन नही है
ज़िल्लत के जीवन से बदतर
कोई कफ़न नही है

देश का हर दीवाना अपने
प्राण चीर कर बोला
बलिदानों के खून से अपना
रंग लो बसंती चोला
अब के हमने जानी है हो
अपने मन में ठानी है हो
हमलावरो की ख़तम कहानी
ख़तम कहानी कर देंगे
अब के बरस
अब के बरस तुझे धरती की रानी कर देंगे
अब के बरस

सुख सपनो के साथ हज़ारों
दुख भी तू ने झेले
हंसी खुशी से भीगे फागुन
अब तक कभी ना खेले
चारों ओर हमारे बिखरे बारूदी अफ़साने
जलती जाती शमा जलते जाते हैं परवाने

फिर भी हम ज़िंदा हैं
अपने बलिदानों के बाल पर
हर शहीद फरमान दे गया
सीमा पर जल जल कर
यारों टूट भले ही जाना
लेकिन कभी ना झुकना
कदम कदम पर मौत मिलेगी
लेकिन फिर भी कभी ना रुकना

बहुत से लिया अब ना सहेंगे
सीने भड़क उठे है
नस नस में बिजली जागी है
बाज़ू फ़ड़क उठे हैं
सिंहासन की खाई करो
ज़ुल्मो के ठेकेदारों

देश के बेटे जाग उठे
तुम अपनी मौत निहारो
अंगारो का जश्न बनेगा
हर शोला जागेगा
बलिदानों की इस धरती से
हर दुश्मन भागेगा

हमने कसम निभानी है
देनी हर क़ुर्बानी है
हमने कसम निभानी है
देनी हर क़ुर्बानी है
अपने सरों की
अपने सरों की अंतिम निशानी भर देंगे
अब के बरस
अब के बरस

901total visits,1visits today

Tagged .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *