Le Guru Ka Naam Vande Yahi to Sahara Bhajan Lyrics in Hindi

le guru ka naam vande yahi to sahara
kya bharosa hain is jindagani ka prabhu ko yaad kar |
ye jag ka palanhara hain ||
le guru ka naam …..|

logon ki takdeer ko, is malik ne sanvara ye jag ka palan hain
deen- dukhiyo ke daman ko bhar dena, guru ka kam hain ||
tariff kya karoon, us dindata ki, dayaloo nam hain |
le guru ka naam …….|

kya bharosa hain anmol jivan ka,
na yoon barbad kar o ……..
saunp de patvar
saunp de patvar
fir to paas me kinara hain,
ye jag ka palan hara hain ||
le guru………
kaun hain tera kya sath jayega,
prabhu dhyan kar –o
vyarth kai kaya,
dhokhe ki hain maya,
se pahachan kar |

bhakt re nadan
bhakt re nadan
prabhu ko kyo tumne bisara hain,
ye jag ka palan hara hai ||
le guru …….
na bhul kabhi parmeshvar
na bhul kabhi parmeshvar ko
jisne insan banaya hain
jal vayu prthvi di jisne
such ka saman banaya hain ||

man ko jo bas me karna hain
to kal prem se sandhya kar
satvadi ban upakar ban,
kyo vyarth ki janam ganvaye
jis dhan daolat par karta hain,
abhimaan raat din ho bande
Na dane kal ye rahe na rahe, na rahe,
yah dharti badhati chhyaya hain
|| na bhul
teri ik ik sans hira moti,
ye lutane ke kabil nahi |
ye duniya badi khoobsoorat,
hardam rahati hain iski jaroorat
hain || na

ले गुरु का नाम वन्दे यही तो सहारा-२ -2
ये जग का पालनहारा हैं || ले गुरु का नाम .......| ||
तारीफ क्या करूं, उस दीनदाता की, दयालू नाम हैं |
दीन- दुखियो के दामन को भर देना, गुरु का कम हैं ||
ओ ......... o …….
लोखो की तकदीर को, इस मालिक ने संवारा ये जग का पालन हरा हैं
ये जग का पालनहारा हैं || ले गुरु का नाम .......|
क्या भरोसा हैं इस जिंदगानी का, प्रभु को यद् कर |

क्या भरोसा हैं अनमोल जीवन का, न यूं बर्बाद कर –ओ ....
सोंप दे पतवार
सोंप दे पतवार
फिर तो पास में किनारा हैं,
ये जग का पालन हरा हैं || ले गुरु..............
कौन हैं तेरा क्या साथ जाएग, प्रभु ध्यान कर –ओ ....
व्यर्थ कई काया, धोखे की हैं माया, प्रभु से पह्चान कर |
भक्त रे नादान-२ प्रभु को क्यों तुमने बिसरा हैं,
ये जग का पालन हारा हैं || ले गुरु ......

ना भूल कभी परमेश्वर
ना भूल कभी परमेश्वर को जिसने इन्सान बनया हैं |
जल वायु प्रथ्वी दी जिसने सुख का समान बनाया हैं ||
मन को जो बस में करना हैं, तो कल प्रेम से संध्या कर |
सतवादी बन उपकार बन, क्यों व्यर्थ की जन्म गवाए
|| न भूल
जिस धन दौलत पर करता हैं, अभिमान रात दिन हो बन्दे |
ना दिन कल ये रहे न रहे, यह धरती बढती छाया हैं ||
|| ना भूल.
तेरी इक-इक साँस हीरा मोती, ये लुटाने के काबिल नहीं |
ये दुनियां बड़ी खूब सूरत, हरदम रहती हैं इसकी जरूरत
हैं || ना

2026total visits,1visits today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *