Download Barishon Ki Chham Chham Mein Mp3 Devi Bhajan


Bhajan : Barishon Ki Chham Chham Mein
Album Name: Ganga Mansa Chandi Ka Darbar
Singer: Pankaj Mamgai, Vidhi Sharma
Composer: Anand Raj Anand
Author: Pankaj Mamgaai
Music Label: T-Series

Barishon ki chham chham mein tere dar pe aaye hain
barishon ki chham chham main tere dar pe aaye hain
mahra wali mahra kar de jholiyan sabki bhar de
mahra wali mahra kar de jholiyan sabki bhar de
bijli kadak rahi hai tham tham ke aaye hain
bijli kadak rahi hai tham tham ke aaye hain
mahra wali mahra kar de jholiyan sabki bhar de
mahra wali mahra kar de jholiyan sabki bhar de

koi budhi maa ke sang aaya koi tanha hua tayiar
koi aaya bhakto ki toli main koi poora parivaar
ho ho koi budhi maa ke sang aaya koi tanha hua tayiar
koi aaya bhakto ki toli main koi poora parivaar
sabki aankhe dekh rahi kab pahunche tere dwar
chhote chhote bachho ko sang leke aaye hain
barishon ki chham chham main tere dar pe aaye hain
mahra wali mahar kar de jholiyan sabki bhar de
mahra wali mahar kar de sabki jholi bhar de

kaali ghan ghor ghataon se jam jam kar barse paani
aage badte hi jaana hai bhakto ne yahi hai thaani
ho ho kaali ghan ghor ghataon se jam jam kar barse paani
aage badte hi jaana hai bhakto ne yahi hai thaani
sabki aas yahi hai ki mil jaye tera pyar
bheegi bheegi palkon pe tere sapne sajaaye hain
barishon ki chham chham main tere dar pe aaye hain
mahra wali mahar kar de jholiyan sabki bhar de
mahra wali mahar kar de sabki jholi bhar de

tere unche bhavan pe maa ambe rahte hain lage mele
meetha fal vo hi paate hain jo takleefen jhelen
ho ho tere unche bhavan pe ma ambe rahte hain lage mele
meetha fal vo hi paate hain jo takleefen jhelen
dukh paakar hi sukh milta hai bhakti ka ye saar
maiya tere taraste deewane aaye hain
baarishon ki chham chham main tere dar pe aaye hain
mahra wali mahar kar de jholiyan sabki bhar de
mahra wali mahar kar de sabki jholi bhar de

Recommended for you  Laxmi Ji Ki Aarti Lyrics in Hindi

rimjhim baras raha ye paani amrit ke lage samaan
is amrit main bheege paapi to ban jaaye insaan
ho ho rimjhim baras rahaa ye paani amrit ke lage samaan
is amrit main bheege paapi to ban jaaye inshan
kar de maiya raani kar de hum pe bhi upkaar
humne bhi jaykaare jam jam ke lagaayen hain
baarishon ki chham chham main tere dar pe aaye hain
mahra wali mahar kar de jholiyan sabki bhar de
mahra wali mahar kar de sabki jholi bhar de

बारिशो की छम छम में तेरे दर पे आये हैं
बारिशो की छम छम में तेरे दर पे आये हैं
महरा वाली महरा कर दे झोलियाँ सबकी भर दे
महरा वाली महरा कर दे झोलियाँ सबकी भर दे
बिजली कड़क रही है है थम थम के आये हैं
बिजली कड़क रही है है थम थम के आये हैं
महरा वाली महरा कर दे झोलियाँ सबकी भर दे
महरा वाली महरा कर दे झोलियाँ सबकी भर दे

कोई बूढी माँ के संग आया कोई तनहा हुआ तैयार
कोई आया भक्तों की टोली में कोई पूरा परिवार
हो हो कोई बूढी माँ के संग आया कोई तनहा हुआ तैयार
कोई आया भक्तों की टोली में कोई पूरा परिवार
सबकी आँखें देख रही कब पहुंचे तेरे द्वार
छोटे छोटे बच्चो को संग लेके आये हैं
बारिशो की छम छम में तेरे दर पे आये हैं
महरा वाली महरा कर दे झोलियाँ सबकी भर दे
महरा वाली महरा कर देयाँ सबकी भर झोलि दे

काली घन घोर घटाओं से जम जम कर बरसे पानी
आगे बढ़ते ही जाना है भक्तों ने यही है ठनी
हो हो काली घन घोर घटाओं से जम जम कर बरसे पानी
आगे बढ़ते ही जाना है भक्तों ने यही है ठनी
सबकी आस यही है की मिल जाये तेरा प्यार
भीगी भीगी पकों पे तेरे सपने सजाये हैं
बारिशो की छम छम में तेरे दर पे आये हैं
महरा वाली महरा कर दे झोलियाँ सबकी भर दे
महरा वाली महरा कर देयाँ सबकी भर झोलि दे

तेरे ऊँचे भवन पे माँ अम्बे रहते हैं लगे मेले
मीठा फल वो ही पाते हैं जो तकलीफें झेलें
हो हो तेरे ऊँचे भवन पे माँ अम्बे रहते हैं लगे मेले
मीठा फल वो ही पाते हैं जो तकलीफें झेलें
दुःख पाकर ही सुख मिलता है भक्ति का ये सार
मैया तेरे तरसते दीवाने आये हैं
बारिशो की छम छम में तेरे दर पे आये हैं
महरा वाली महरा कर दे झोलियाँ सबकी भर दे
महरा वाली महरा कर देयाँ सबकी भर झोलि दे

रिमझिम बरस रहा ये पानी अमृत के लगे सामान
इस अमृत में भीगे पापी तो बन जाये इंसान
हो हो रिमझिम बरस रहा ये पानी अमृत के लगे सामान
इस अमृत में भीगे पापी तो बन जाये इंसान
कर दे मैया रानी कर दे हम पे भी उपकार
हमने भी जयकारे जम जम के लगाये हैं
बारिशो की छम छम में तेरे दर पे आये हैं
महरा वाली महरा कर दे झोलियाँ सबकी भर दे
महरा वाली महरा कर देयाँ सबकी भर झोलि दे

275total visits,3visits today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *