Qawwali LUTEE KARBALA MEIN NABI KI NISHANI Lyrics


ali ka dulara vo zahara ka jaani
nahi jiska tareekh main koi saani
zameen aasman isliye ro rahe hain
lutee karbala mein nabi ki nishani

ali fatima ka ankho ka tarah
chala run main na beeta dulara
hazaron hi zaanib ka qayamat ka saaya
zameen fat gayi aasman thartharaya
har ek aankh main aa gaya aankh ka paani
lutee karbala mein nabi ki nishani

अली का दुलारा वो जहारा का जानी
नहीं जिसका तारीख मैं कोई सानी
ज़मीन आसमान इसलिए रो रहे हैं
लुटी कर्बला में नबी की निशानी

अली फातिमा का आँखों का तारा
चला रन में ना बीता दुलारा
हजारों ही जानिब का क़यामत का साया
ज़मीन फट गयी आसमान थर थराया
हर एक आँख में आ गया आँख का पानी
लुटी कर्बला में नबी की निशानी

162total visits,2visits today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *