Download Are Dwarpalo Kanhaiya Se Kehdo Lyrics

Dekho dekho yeh garibi yeh garibi kaha le
Krishna ke dwar pe biswas leke aaya hoon
Mere bachpan ka yeaar hai mera Shyam
Yeh hi soch kar mein aash kar ke aaya hoon

Are dwarpalo Kanhaiya se keh do
Ke dar pe Sudama karib aagaya hai

Haa - bhatakte bhatakte naa jaane kaha se
Bhatakte bhatakte naa jaane kaha se

Tumhare mahal ke karib aagaya hai
Tumhare mahal ke karib aagaya hai

O Are dwarpalo uss Kanhaiya se keh do
Ke dar pe Sudama karib aagaya hai

Naa sarpe hai pagri naa tan pe hai jaama
Baatado Kanhaiya ko naam hai Sudama
Ha baata do Kanhaiya ko naam hai Sudama

Naa sar pe hai pagri
Naa tan pe hai jaama
Bata do Kanhaiya ko naam hai Sudama
Ho naa sar pe hai pagri naa tan pe hai jaama

Baata do Kanhaiya ko naam hai Sudama
Ho baata do Kanhaiya ko naam hai Sudama

Ek baar Mohan se ja kar ke kah do
Tum ek baar Mohan se ja kar ke kahe do

Ke milne sakha pad nasib aa gaya hai

Are dwarpalo Kanhaiya se keh do
Ke dwar pe Sudama karib aageyaa hai

Sunte hi doude chale aaye Mohan
Laagaya gale se Sudama ko Mohan
Ha Laagaya gale se Sudama ko Mohan

Hua Ruksmani ko bahut hi achambha
Yeh mehmaan kaisa ajeeb aageyaa hai

Barabar pe apne Sudama ko bithaye
Charan aansuon se shyam ne dhulaye

Na ghabraao pyare jara tum Sudama
Khushi ka shama tere karee baa gaya hai

देखो देखो ये गरीबी ये गरीबी का हाल
कृष्णा के द्वार पे विश्वास लेके आया हूँ
मेरे बचपन का यार है मेरा श्याम
ये ही सोच कर मैं आस कर के आया हूँ

अरे द्वारपालों कन्हइया से कह दो
के दर पे सुदामा करीब आ गया है

हाँ भटकते भटकते ना जाने कहाँ से
भटकते भटकते ना जाने कहाँ से

तुम्हारे महल के करीब आ गया है
तुम्हारे महल के करीब आ गया है

ओ अरे द्वारपालों उस कन्हइया से कह दो
के दर पे सुदामा करीब आ गया है

ना सरपे है पगड़ी ना तन पे है जामा
बता दो कन्हइया को नाम है सुदामा
हाँ बता दो कन्हइया को नाम है सुदामा

ना सर पे है पगड़ी
ना तन पे है जामा
बता दो कन्हइया को नाम है सुदामा
हो ना सर पे है पगड़ी
ना तन पे है जामा

बता दो कन्हइया को नाम है सुदामा
हो बता दो कन्हइया को नाम है सुदामा

एक बार मोहन से जा कर के कह दो
तुम एक बार मोहन से जा कर के कह दो
के मिलने सखा बदनसीब आ गया है

अरे द्वारपालों कन्हइया से कह दो
के द्वार पे सुदामा करीब आ गया है

सुनते ही दोड़े चले आये मोहन,
लगाया गले से सुदामा को मोहन ।
हाँ लगाया गले से सुदामा को मोहन

हुआ रुकमनी को बहुत ही अचम्भा,
यह मेहमान कैसा अजीब आ गया है ॥

बराबर पे अपने सुदामा को बिठाये
चरण आसुओं से श्याम ने धुलाये

ना घबराओ प्यारे जरा तुम सुदामा
ख़ुशी का शमा तेरे करीब आ गया है

132total visits,9visits today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *