Na Jaane Kaise Pal Mein Badal Jaate Hain Lyrics in Hindi

Song : Na jaane Kaise Badal Jate Hain
Singer : Kishor Kumar, Mohammed Rafi, Suman Kalyanpuri
Movie : Badalte Rishtey (1978)



Lyrics : Anjaan

Na jaane kaise pal me badal jaate hain
na jaane kaise pal me badal jaate hain
ye duniya ke badalte rishte
kya jaane kaise rangon me dhal jaate hain
ye duniya ke badalte rishte
na jaane kaise pal me badal jaate hain




judkar kahin dil jod dein
toote to dil tod jaate hain ye
judkar kahin dil jod dein
toote to dil tod jaate hain ye
ye phool bankar hain khilte kahin
kahin dil me kaante chubhaate hain ye
jaane kahan kis mod pe
deke daga dil ko
chhal jaate hain
ye duniya ke badalte rishte
na jaane kaise pal me badal jaate hain
ye duniya ke badalte rishte




apnon se yoon bichde hain jo
unhen kya bichadne ka kuch gham nahin
apnon se yoon bichde hain jo
unhen kya bichadne ka kuch gham nahin
magar haar kar kyun dukhon se koi
jahar ghol de zindagi me kahin
sab khel hai taqdeer ka
taqdeer se hi badal jaate hain
ye duniya ke badalte rishte
na jaane kaise pal me badal jaate hain
ye duniya ke badalte rishte

rishte kabhi toote kahan jo
toot jaaye wo rishte nahin
rishte kabhi toote kahan jo
toot jaaye wo rishte nahin
chhupi hai udaasi ke peeche hansi
dabi dard me bhi khushi hai kahin
sach to hai ye bas pyar se
jeewan hamare badal jaate hain
ye duniya ke badalte rishte
na jaane kaise pal me badal jaate hain
ye duniya ke badalte rishte



ना जाने कैसे पल में बदल जाते हैं
ना जाने कैसे पल में बदल जाते हैं
ये दुनिया के बदलते रिश्ते
क्या जाने कैसे रंगों में ढल जाते हैं
ये दुनिया के बदलते रिश्ते
न जाने कैसे पल में बदल जाते हैं
ये दुनिया के बदलते रिश्ते




जुड़कर कहीं दिल जोड़ दें टूटे तो दिल तोड़ जाते हैं ये
जुड़कर कहीं दिल जोड़ दें टूटे तो दिल तोड़ जाते हैं ये
ये फूल बनकर हैं खिलते कहीं
कहीं दिल में कांटे चुभाते हैं ये
जाने कहाँ किस मोड़ पे देके दगा दिल को छल जाते हैं
ये दुनिया के बदलते रिश्ते
ना जाने कैसे पल में बदल जाते हैं
ये दुनिया के बदलते रिश्ते

अपनों से यूं बिछड़े हैं जो
उन्हें क्या बिछड़ने का कुछ ग़म नहीं
अपनों से यूं बिछड़े हैं जो
उन्हें क्या बिछड़ने का कुछ ग़म नहीं
मगर हार कर क्यूँ दुखों से कोई
जहर घोल दे जिंदगी में कहीं
सब खेल हैं तकदीर का
तकदीर से ही बदल जाते
ये दुनिया के बदलते रिश्ते
न जाने कैसे पल में बदल जाते हैं
ये दुनिया के बदलते रिश्ते

रिश्ते कभी टूटे कहाँ जो टूट जाए वो रिश्ते नहीं
रिश्ते कभी टूटे कहाँ जो टूट जाए वो रिश्ते नहीं
छुपी हैं उदासी के पीछे हंसी
दबी दर्द में भी ख़ुशी हैं कहीं
सच तो हैं ये बस प्यार से जीवन हमारे बदल जाते हैं
ये दुनिया के बदलते रिश्ते
न जाने कैसे पल में बदल जाते हैं
ये दुनिया के बदलते रिश्ते



Tagged , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published.